कोरोना महामारी के बीच मध्यप्रदेश की संस्कृति और अध्यात्म मंत्री उषा ठाकुर ने रविवार को विवादित बयान देते हुए कहा कि सूर्योदय और सूर्यास्त के समय गाय के गोबर के कंडे पर गो-घी की दो आहुति हवन अग्नि में डालें तो ऐसा करने मात्र से ही कोई भी घर 12 घंटे तक संक्रमण मुक्त रह सकता है।

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की पूर्व संध्या पर इंदौर प्रेस क्लब में आयोजित कार्यक्रम में उषा ठाकुर ने कहा, “कोविड-19 के प्रकोप से निपटने में एलोपैथी के साथ ही वैदिक दिनचर्या की भी अपनी भूमिका है। महामारी के संकट ने हम सबको समझा दिया है कि हमें वैदिक जीवन पद्धति के मार्ग पर लौटना होगा।”

उन्होंने कहा, आप गाय के दूध से बने घी में अक्षत (पूजा में प्रयोग होने वाले साबुत चावल) मिलाकर रखें। अगर आप सूर्योदय और सूर्यास्त के वक्त गाय के ही गोबर के कंडे पर हवन के दौरान इस घी की दो आहुतियां दें, तो आप यकीन मानें कि आपका घर 12 घंटे तक सैनिटाइज (संक्रमण मुक्त) रहेगा।

उन्होंने दावा किया कि उन्होंने जो कहा उस बात को विज्ञान भी मानता है। असल में, यह विज्ञान है कि जब सूर्य उदय या अस्त होता है, तो धरती की गुरुत्वाकर्षण शक्ति 20 गुना तक बढ़ जाती है। वहीं, शाम के समय वायुमंडल में ऑक्सीजन कम होती है, इस समय यदि हमें ऑक्सीजन की प्रचुर मात्रा चाहिए, तो घी की यह दो आहुतियां इस प्रचुरता को पूरे पर्यावरण में व्याप्त कर देती हैं।

ठाकुर ने इंदौर प्रेस क्लब में आयोजित कार्यक्रम के दौरान महिला वर्ग की उन पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं को सम्मानित किया जिन्होंने कोविड-19 के संकट के दौरान लगातार मैदानी दायित्व संभाला तथा आम लोगों की हर मुमकिन मदद की।