neerav

neerav

पंजाब नेशनल बैंक के 12000 हजार करोड़ के कथित घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी के मामले में भारत को बड़ा झटका लगा है.

अमेरिका की एक अदालत ने मोदी की कंपनी फायरस्टार डायमंड से कर्ज वसूली पर रोक लगा दी है. दरअसल नीरव मोदी की कंपनी फायरस्टार डायमंड इंक ने दिवालिया कानून के तहत संरक्षण के लिए न्यूयॉर्क की एक अदालत में याचिका डाली थी.

अदालत ने कहा कि ऐसी याचिका मंजूर होते ही कर्ज वसूलियों पर खुद ब खुद रोक लग जाती है. अदालत ने अपने आदेश में कहा कि ‘कर्ज देने वाले अब वसूली के लिए अपने कर्जदार या उसकी संपत्तियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर सकते.’ इस मामले में कर्ज देना वाला देश भारत है और कंपनी पीएनबी.

आदेश में कहा गया है, ‘उदाहरण के लिए, जब तक ये रोक लागू है, लोन देने वाले अपने कर्जदार से वसूली के लिए न उन पर कोई केस कर सकते हैं और न ही उनकी संपत्तियां जब्त कर सकते हैं. इसका उल्लंघन करने वालों को वास्तविक और दंडात्मक नुकसान व वकील की फीस भी चुकानी पड़ सकती है.’

इसके अलावा अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने उन खबरों की भी पुष्टि करने से इंकार कर दिया. जिसमे नीरव मोदी के अमेरिका में होने की बात कही गई थी. अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता ने बताया, ‘हम हाल के मीडिया रपटों से वाकिफ हैं कि नीरव मोदी अमेरिका में है पर इस बारे में पक्का नहीं कह सकते.’

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें