Thursday, January 20, 2022

आला हजरत का 101वां उर्स शुरू, हजारों की संख्या में पहुंचे जायरीन

- Advertisement -

बरेली। उर्स-ए-रजवी का दूसरा दिन शबाब पर रहा। देश विदेश से हजारों की संख्या में जायरीन बरेली शरीफ पहुंचे। बुधवार सुबह दरगाह आला हजरत पर कुरानख्वानी के साथ उर्स का आगाज हुआ।

दोपहर करीब ढाई बजे ठिरिया निजावत खां से चादरों का जुलूस निकला। साढ़े तीन बजे आजम नगर से परचम कुशाई का जुलूस निकला। दरगाह ख्वाजा गरीब नवाज के गद्दीनशीन सय्यद सुल्तान चिश्ती ने दरगाह प्रमुख मौलाना सुब्हानी मियां और सज्जादानशीन मुफ्ती अहसन मियां की मौजूदगी में दरगाह पर संदल शरीफ पेश किया। गुस्ल की रस्म अदा की गई।

इस्लामिया इंटर कालेज मैदान पर आयोजित जलसे मेन उलमा ने आला हजरत इमाम अहमद रजा खां फजिले बरेलवी, मुफ्ती आजम हिंद हजरत मुस्तफा रजा खां और रेहाने मिल्लत हजरत रेहान रजा खां की जिंदगी के साथ ही दीनी मामलात पर भी रोशनी डाली। इसमें खास तौर से तुर्की से आए नैसी तुर्बा ने आला हजरत के इल्म पर चर्चा की।

उन्होंने कहा कि अल्लाह ताला ने जो कुछ आला हजरत को अता किया वो इश्के रसूल की बुनियाद थी। इसी तरह दूसरे बड़े उलमा ने आला हजरत को इल्म का सूरज कहा और उन्हें 19वीं और 20वीं सदी का मुजद्दि बताया। जलसे दौरान रात 1:40 बजे मुफ्ती आजम हिंद के कुल शरीफ की रस्म अदा की गई। इसमें बाहरी जायरीन के अलावा स्थानीय अकीदतमंदों की भी शिरकत रही।

दरगाह से जुड़े नासिर कुरैशी ने बताया कि शुक्रवार को इस्लामिया कालेज के मंच सुबह से ही तकरीरों का सिलसिला शुरू हो जाएगा। आला हजरत का कुल दोपहर 2:38 बजे होगा। इसके बाद अपरान्ह 3 बजे सज्जादानशीन अहसन मियां उर्स स्थल पर ही जुमे की नमाज अदा कराएंगे।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles