‘उर्दू मुसलमानों की जागीर नहीं, सभी हिंदुस्तानियों की है भाषा: मार्केंडेय काटजू

10:43 am Published by:-Hindi News

प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के पूर्व अध्यक्ष और सुप्रीम कोर्ट के जज रहे मार्केंडेय काटजू ने रविवार को उर्दू भाषा को लेकर कहा कि उर्दू मुसलमानों की जागीर नहीं है। उन्होने कहा, उर्दू सभी हिंदुस्तानियों की भाषा है। कुरान से भी कहीं ज्यादा रामायण का उर्दू में तर्जुमा हुआ है।

उन्होने ट्वीट में लिखा, ‘मुझे एक बार कार्यक्रम के सिलसिले में लखनऊ बुलाया गया। वहां एक युवा मुस्लिम महिला ने कहा कि वह अपने बच्चों को उर्दू इसलिए सिखा रही है, ताकि वे कुरान अच्छे से पढ़ सके। इस पर मैंने उनसे कहा – मोहतर्रमा कुरान अरबी में है। उर्दू में जितनी कुरान लिखी गई हैं, उससे ज्यादा रामायण उर्दू में है।’

अपनी इस टिप्पणी को समझाते हुए उन्होंने दूसरी ट्वीट में कहा – मैं इस बात का उल्लेख इसलिए कर रहा हूं क्योंकि अधिकांश मुस्लिम समझते हैं कि उर्दू उनकी जागीर है। सच्चाई तो यह है कि उर्दू भाषा सभी समुदायों की है। भले ही वह हिंदू हो, सिख हो या फिर मुस्लिम हो।https://twitter.com/mkatju/status/1117306915623665664

अपने उर्दू प्रेम को जाहिर करते हुए मार्केंडेय काटजू ने आगे कहा, ‘मैं शुरुआत से ही उर्दू जबान का प्रेमी रहा हूं। मैं जब इलाहाबाद में था तो एक उर्दू सोसाइटी ज्वाइन की थी, जिसमें मैं अकेला हिंदू था।’ वह यह भी लिखते हैं, मैंने राष्ट्रपति का चुनाव भी लड़ा है, लेकिन मुझे सिर्फ अपना ही वोट मिला था। यही नहीं, जिस शख्स की ताजपोशी राष्ट्रपति पद पर हुई थी… मुसलमान होते हुए भी उन्हें उर्दू की बहुत कम जानकारी थी।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें