Saturday, January 29, 2022

मुस्लिमों पर अत्याचार को लेकर संयुक्त राष्ट्र ने दी भारत को चेतावनी

- Advertisement -

युनाइटेड नेशंस ह्यूमन राइट्स की प्रमुख मिशेल बाचले ने भारत को मुस्लिमों पर हो रहे अत्याचार को लेकर चेतावनी दी है। बाचले ने बुधवार को कहा कि ‘बाँटने वाली नीतियों’ से आर्थिक वृद्धि को झटका लग सकता है। मिशेल ने कहा कि संकीर्ण राजनीति एजेंडा के कारण समाज में कमज़ोर लोग पहले से ही हाशिए पर हैं।

जिनेवा में ह्यूमन राइट्स काउंसिल के समक्ष दाखिल अपनी सालाना रिपोर्ट में उन्होंने कहा, ‘हमें ऐसी रिपोर्ट्स मिल रही हैं, जिनसे अल्पसंख्यकों को निशाना बनाए जाने और उनके उत्पीड़न के संकेत मिलते हैं।’ मिशेल के मुताबिक, खास तौर पर दलित और आदिवासी भी इस उत्पीड़न का शिकार हो रहे हैं।

बता दें कि इससे पहले 2016 में अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच और एमनेस्टी इंटरनेशनल की सालाना रिपोर्ट में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार की आलोचना की थी। एमनेस्टी इंटरनेशनल ने ग्रीनपीस और फ़ोर्ड फ़ाउंडेशन का हवाला देते हुए एनजीओ और कार्यकर्ताओं को निशाना बनाने और विदेशी फ़ंड रोकने के लिए मोदी सरकार को जमकर कोसा था।

muslim people praying
source: Youtube

वहीं, ह्यूमन राइट्स वॉच की 2016 की रिपोर्ट में कहा गया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर हो रहे हमलों को रोकने में नाकाम रही। अपनी 659 पन्नों की रिपोर्ट में ह्यूमन राइट्स वॉच ने कहा था कि सरकार का या फिर बड़े औद्योगिक प्रोजेक्ट्स का विरोध करने वाले एनजीओ को मिलने वाले विदेशी फ़ंड्स पर रोक लगा दी गई इससे अन्य संगठन भी सकते में हैं.

ह्यूमन राइट्स वॉच की मीनाक्षी गांगुली ने कहा था, “असहमति पर भारत सरकार का जो रवैया रहा है उससे देश में अभिव्यक्ति की आज़ादी की परंपरा को धक्का लगा है।” बता दें कि पिछले साल आई इंटरजेनरेशनल मोबिलिटी इंडेक्स के मुताबिक, भारत में मुस्लिमों की हालत और ज्यादा खराब हुई है।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles