Thursday, December 2, 2021

छठा वेट गनपाउडर अवॉर्ड के लिए भारत में वोट

- Advertisement -

नई दिल्ली, 29 जून। छठे गनपाउडर अवॉर्ड के लिए दिल्ली में वोट डाले गए जिसमें जनता ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। ऑल इंडिया तंजीम उलामा ए इस्लाम के बैनर पर दिल्ली में इस अवॉर्ड के लिए तीन उम्मीदवारों अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प, संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की प्रतिनिधि निकी हेली और इसराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू के लिए लोगों ने अपनी राय रखी। आपको बता दें कि दुनिया भर के बुद्धिजीवी, कार्यकर्ता और पीड़ितों के प्रति सद्भावना रखने वाले संगठऩ हर वर्ष ‘वेट गनपाउडर अवॉर्ड’ का आयोजन करते हैं जिसके पहले वह दुनिया के बड़े शहरों में आम जनता की राय लेते हैं और उसके बाद किसी एक दुर्दांत नेता को यह अवॉर्ड मिलता है।

nn1दिल्ली में आयोजित इस मतदान के लिए एक हज़ार मत पत्र छापे गए थे और वोट के लिए तीन घंटे का समय निर्धारित किया गया था लेकिन शुक्रवार की नमाज़ के बाद जैसे ही मतदान को जनता के लिए खोला गया, एक ही घंटे में मतपत्र समाप्त हो गए औऱ लोगों ने जोश खरोश के साथ अपनी राय रखी। वोट के बाद 973 मतपत्र सही पाए गए जिसमें सबसे अधिक वोट निकी हेली को मिले। उन्हें 513 वोटों के साथ भारत के लोगों ने इस साल का वेट गनपाउडर अवॉर्ड के लायक नेता माना, इसके बाद इसराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू को 289 वोट मिले जबकि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को 171 वोटों के साथ तीसरा नम्बर मिला।

आपको बता दें कि अमेरिका की संयुक्त राष्ट्र में राजदूत निकी हेली भारत के दौरे पर हैं और वह मीडिया में बहुत चर्चित नाम हैं। वेट गनपाउडर अवॉर्ड के लिए निकी हेली को भारत के लोगों की पसंद के पीछे का कारण हमें संगठन के प्रतिनिधि शुजात कादरी ने बताया।  उन्होंने कहाकि निकी हेली इस समय भारत में हैं और लोगों की जानकारी उनके बारे में अचानक बढ़ी है। यही कारण है कि निकी के कारनामें भी लोगों तक पहुँचे हैं। कादरी ने कहाकि निकी हेली के खिलाफ दिल्ली औऱ जयपुर के अलावा कई शहरों में भारत के लोगों का विरोध झेलना पड़ा है।

तंज़ीम उलामा ए इस्लाम के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुफ्ती अशफाक़ हुसैन क़ादरी ने कहाकि इस वोटिंग के नतीजों को हम हमारे वैश्विक साथियों के साथ साझा करेंगे और उन्हें इन नतीज़ों के बारे मे अवगत करवाएंगे। मुफ्ती ने कहाकि भारत का मुस्लिम ही नहीं बल्कि बहुसंख्यक हिन्दू भी फ़िलस्तीन पर इसराइल के नाजायज़ कब्ज़े, ज़ायोनिस्ट ताकतों के जुल्म और अमेरिका की आतंकवाद पर दोहरी नीति के विरोध में है। फ़िलस्तीनियों के अपने घर वापसी के आंदोलन को जिस तरह इसराइल की हुकूमत ने कुचलने की कोशिश की है वह दुनिया में मानवाधिकार के उल्लंघन के मामले में पूरी तरह फाश हो चुका है। यह इसराइल की नैतिक हार है।

nn2वोटिंग के दौरान नई दिल्ली के आम लोगों से भी राय माँगी गई। एक सवाल के जवाब में कासिम ख़ान नामक युवा ने कहाकि यूँ तो उनकी नज़र में डॉनाल्ड ट्रम्प, निकी हेली और नेतान्याहू तीनों दोषी हैं लेकिन वह निकी को इसलिए अधिक दोषी मानते हैं क्योंकि संयुक्त राष्ट्र में वह इसराइल के मानवाधिकार उल्लंघन के मसले पर इसराइल को बचा रही हैं।  एक और युवा अफज़ल ने भी निकी हेली को मानवाधिकार उल्लंघन का सबसे बड़ा दोषी मानते हुए उन्हें वेट गनपाउडर अवॉर्ड के लिए उचित उम्मीदवार माना।

नईम ने कहाकि वह नेतान्याहू से नफरत करते हैं क्योंकि उनके हाथ आम फ़िलस्तीनियों से रंगे हुए हैं। वोटिंग के बाद तंज़ीम उलामा ए इस्लाम के कार्यकर्ताओं ने भारत के जनमत को जारी करते हुए वेट गनपाउडर अवॉर्ड के लिए कुल वोटों की संख्या मीडिया के सामने जारी की।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles