mj akbar

#Metoo कैंपेन के तहत यौ*न शोषण के आरोपों से घिरे केंद्रीय मंत्री एम जे अकबर रविवार को अपनी विदेशयात्रा से लौट आए है। रविवार को उन्होने अपने ऊपर लगे यौन उत्‍पीड़न के सभी आरोपों को झूठा और बेबुनियाद ठहराया। उन्‍होंने कहा कि मैं इन आरोपों पर पहले इसलिए नहीं कुछ बोल पाया था क्‍योंकि मैं विदेश दौरे पर था।

विदेश राज्‍य मंत्री एमजे अकबर ने रविवार को आरोपों पर सफाई देते हुए कहा कि मेरे ऊपर बिना सुबूतों के लगाए जा रहे आरोप वायरल बुखार की तरह से कुछ तबके के बीच फैल रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि मामला कुछ भी हो। अब मैं वापस आ गया हूं। मेरे वकील अब इस मामले को देखेंगे। साथ ही इन सभी बेबुनियाद आरोपों पर निर्णय लेने को लेकर भविष्‍य की रणनीति तय की जाएगी।

केंद्रीय मंत्री ने कहा, आरोप लगाने वाली एक महिला ने कहा कि मैंने कभी उसे हाथ नहीं लगाया। दूसरी ने कहा कि उन्होंने वास्तव में कुछ नहीं किया। एक महिला ने कहा कि मैं स्वीमिंग पूल में पार्टी कर रहा था। मुझे ये भी नहीं पता कि तैराकी कैसे की जाती है। एक महिला ने दफ्तर में शोषण के आरोप लगाए। ये 21 साल पहले का मामला है, यानी मेरे राजनीति में शामिल होने से 16 साल पहले का, जब मैं मीडिया में था।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा कि मैंने उस महिला के साथ केवल एशियन एज के दफ्तर में काम किया। तब एडिटोरियल टीम एक छोटे से हॉल में काम करती थी। जिस समय की बात हो रही है, मेरा एक बहुत छोटा क्यूबिकल था। प्लाइवुड और ग्लास से बना। 2 फीट की दूरी पर दूसरों के पास कुर्सियां और मेज थीं। ये बेहद अजीब है कि इतनी छोटी जगह में कुछ हो सकता है। इससे भी बड़ी बात कि नजदीक के लोगों को कुछ भी पता नहीं चला। ये उकसावे में लगाए गए झूठे और बेबुनियाद आरोप हैं। जिस समय की घटना का जिक्र किया गया है, उसके बाद भी दोनों पत्रकार मेरे साथ काम करती रहीं। इससे साफ होता है कि उन्हें कोई आशंका या असहजता नहीं थी। इतने समय तक वे चुप क्यों रहे, इसका कारण स्पष्ट है। जैसा कि एक महिला ने खुद कहा कि मैंने कभी कुछ नहीं किया।

केंद्रीय मंत्री ने कहा- झूठ के पैर नहीं होते, लेकिन इनमें ऐसा जहर हो सकता है जो पागलपन फैला सकता है। ये दुख पहुंचाने वाला है। मैं कानूनी कदम उठाऊंगा। अगर मैंने कुछ नहीं किया है, तो ये कहानी कहां से आ रही है। कोई कहानी है ही नहीं। एक ऐसी चीज के इर्द-गिर्द झूठे आरोपों, अफवाहों और अनुचित आक्षेपों का सागर बनाया जा रहा है, जो कभी हुई ही नहीं। मैंने कुछ नहीं किया।

Loading...