बच्चों की मौतों को लेकर थी स्वास्थ्य मंत्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस, ऊंघते नजर आए केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे?

10:54 am Published by:-Hindi News

पटना: बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से लगातार हो रही बच्चों की मौत का आंकड़ा 90 से ऊपर पहुँच चुका है। रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन SKMCH अस्पताल पहुंचे। इस दौरान उनके साथ केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे मौजूद थे।

अस्पताल के दौरे के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की। राज्य के मुख्य विपक्षी दल आरजेडी ने एक तस्वीर साझा करते हुए प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान स्वास्थ्य राज्य मंत्री और बिहार भाजपा के नेता अश्विनी चौबे के सोने का आरोप लगाया। दरअसल, प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अश्विनी कुमार चौबे ऊंघते नजर आए।

 

आरजेडी ने ट्वीट में लिखा, ‘200 बच्चों की जान जाने के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस हो रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे उसी प्रेस कॉन्फ्रेंस में सो रहे हैं। बिहार सरकार के मंत्री भी जम्हाई ले रहे। जाने इनकी मानवीय संवेदना कहाँ मर गई? सीएम तो गहरी निद्रा में है ही?’

बिहार कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा ने ट्वीट करते हुए लिखा, ”सो लीजिए मंत्री जी ,चुनाव ख़त्म हो चुका है। आप जीत चुके है और 20 दिनो तक जश्न मनाने के बाद आपको मुज़फ़्फ़रपुर आने का समय मिला वह ही बहुत है। 100 से ज़्यादा मौतें और अभी भी अगर सरकार की नींद नहीं खुली तो फिर सिर्फ़ ईश्वर ही मल्लिक है।”

वहीं राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी के नेता उपेन्द्र कुशवाहा ने ट्वीट किया उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि, “लगभग 200 परिवारों का आँगन सुना हो चुका है और हजारों बच्चें काल की गोद में है फिर भी डबल इंजन सरकार सो रही हैं। अब तो ईश्वर के भरोसे ही बिहार और देश की आश बची है।”

बिहार के मधेपुरा से पूर्व सांसद पप्पू यादव ने ट्वीट करते हुए लिखा, “सोइये हुज़ूर!ये बच्चे आपके नहीं हैं। इसमें हिन्दू-मुसलमान की राजनीति नहीं हो सकती,तो जग कर आप क्या करेंगे?5साल बाद इसमें पाक की साजिश ढूंढ लीजियेगा।फिर वोट ले,ऐसे ही गधा बेच सो जाइयेगा। गरीब मां-बाप अपने बच्चों की बेमौत मौत पर रतजगा करें,उनकी आंखों की नींद उड़ जाय। आपको क्या फर्क?”

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें