गुजरात के उना में गौरक्षा के नाम पर भगवा संगठन के कार्यकर्ताओं द्वारा दलित युवकों की पिटाई पुलिस की मिलीभगत से की गई थी. इस सबंध में सीआईडी ने 4 पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार किया है.

दरअसल जिस लाठी से दलित युवकों को पीटा गया था वह पुलिस की लाठी थी. इस पर सवाल उठाये जाने पर पुलिस की मिलीभगत का शक पैदा हुआ था. हालांकि पुलिसवालों ने खुद को बचाने के लिए आरोपियों को बचाने के लिए गाय चोरी की फर्जी शिकायत भी दर्ज कराई थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सीआईडी की चार्जशीट के मुताबिक स्थानीय पुलिस कर्मियों की मिलीभगत से ही दलितों की पिटाई को अंजाम दिया गया था. घटना के अगले दिन गाय चोरी की फर्जी शिकायत दर्ज कराई गई. पुलिस अच्छे से जानती थी कि शिकायत फर्जी है बावजूद इसके सरकारी दस्तवेज बनाए गए.

सीआईडी ने इस मामलें में एक पुलिस इंस्पेक्टर, एक सब इंस्पेक्टर और 2 कॉन्स्टेबल को गिरफ्तार किया हैं.

Loading...