Monday, October 18, 2021

 

 

 

मदरसों में NCERT की किताबे पढाये जाने के योगी सरकार के फैसले पर भडके उलेमा, कही ये बाते..

- Advertisement -
- Advertisement -

madarsa ncert syllabus 1509353921

देवबंद | उत्तर प्रदेश की योगी सरकार मदरसों पर खास मेहरबान दिखाई दे रही है. इसलिए सरकार बनने के बाद से ही मदरसो को लेकर कोई न कोई नोटिफिकेशन जारी होता रहता है. नये आदेश में योगी सरकार ने मदरसों के पाठ्यक्रम में NCERT की किताबे शामिल करने का फैसला किया है. जिस पर विवाद खड़ा हो गया है. जहाँ योगी सरकार की दलील है की इससे मदरसों में पढने वाले बच्चे बाकी स्कूलों के बच्चो से प्रतिस्पर्धा कर सके.

लेकिन उलेमाओ को ऐसा नही लगता. उनका कहना है की सरकार मदरसों के पाठ्यक्रमो में जबरदस्ती बदलाव करना चाहती है. इसलिए ऐसे फैसले लिए जा रहे है. उलेमाओ ने सरकार के इस फैसले को स्वीकार करने से इनकार कर दिया है. न्यूज़ एजेंसी भाषा के अनुसार दारुम उलूम अशरफिया के मोहतमित मौलाना सालिक अशरफ ने योगी सरकार के फैसले पर असहमित जताई.

उन्होंने कहा की हम सरकार के इस आदेश से सहमत नही है. इसलिए हम इसे स्वीकार नही करेंगे. योगी सरकार जबरदस्ती मदरसों के पाठ्यक्रमो में बदलाव करना चाहती है. हालाँकि उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने ट्वीट कर जो जानकारी दी है उसमे कहा गया की मदरसों में मजहबी किताबो के साथ साथ NCERT की किताबे भी पढ़ाई जायेंगी. इसके लिए सरकार ने मंजूरी दे दी है. इसमें गणित और विज्ञान की किताबे शामिल है.

हालाँकि मदरसों में कक्षा 8 तक के स्तर तक गणित , हिंदी, अंग्रेजी , विज्ञान जैसे विषय पढाये जाते है लेकिन सरकार के फैसले के बाद हाई स्कूल और उससे उच्च स्तर तक भी गणित और विज्ञान के विषय पढाये जा सकेंगे. उल्लेखनीय है की योगी सरकार इससे पहले मदरसों को ऑनलाइन करने का भी आदेश जारी कर चुकी है. आदेश के अनुसार मदरसों को उनके यहाँ पढ़ाने वाले शिक्षक, बच्चे और कमरों तक की जानकारी ऑनलाइन करनी थी. इस पर काफी विवाद हुआ था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles