Thursday, January 20, 2022

CAA विरोध का असर पर्यटन पर भी, दो लाख पर्यटकों ने रद्द किया ताजमहल का दौरा

- Advertisement -

संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ देशभर में फैले विरोध प्रदर्शन का पर्यटन उद्योग पर भी बुरा असर पड़ा है। ‘ताजमहल’ घूमने आने वाले पर्यटकों की संख्या में इस साल दिसंबर में 60% गिरावट देखी गई है।

5 दिनों में दो लाख पर्यटकों ने ताजमहल का दौरा रद्द कर दिया। अयोध्या फैसले के बाद नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हुए विरोध प्रदर्शन को इस गिरावट का मुख्य कारण माना जा रहा है।

संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, रूस, इजरायल, सिंगापुर, कनाडा और ताइवान ने अपने नागरिकों को ट्रैवल एडवाइजरी जारी की है। एडवाइजरी में कहा गया है कि वे भारत के ऐसे संवेदनशील इलाकों में न जाएं जहां पर हिंसा की आशंका हैं।

द मिंट में छपी एक खबर के मुताबिक अधिकारियों ने अनुमान लगाया कि लगभग 200,000 घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों ने ताजमहल की यात्रा को पिछले दो सप्ताह में रद्द कर दिया या स्थगित कर दिया। ताजमहल दुनिया के सबसे लोकप्रिय पर्यटक आकर्षणों में से एक है और यहां पर देश-विदेश से भारी संख्या में टूरिस्ट आते हैं।

वहीं एएसआई के अधिकारियों के द्वारा उपलब्ध कराए गए डेटा के मुताबिक, बीते साल यानी 2018 में विदेशियों समेत कुल 7 लाख पर्यटक ताजमहल देखने पहुंचे थे, वहीं इस महीने अब तक सिर्फ 4.5 लाख पर्यटक ही आए। इसके अलावा नवंबर महीने में भी यह गिरावट देखने को मिली थी। जहां बीते साल नवंबर में 6.7 लाख पर्यटक पहुंचे थे, वहीं इस साल सिर्फ 5.4 लाख पर्यटक ताजमहल घूमने आए।

एएसआई के सुपरिटेंडेंट आर्कियॉलॉजिस्ट (आगरा सर्कल) वसंत स्वर्णकार ने कहा, ‘हालांकि हम पर्यटकों की इस गिरावट के सटीक कारणों के बारे में स्पष्ट रूप से नहीं कह सकते हैं, लेकिन पूरे देश में हिंसा और अशांति इसका एक कारण हो सकता है।’ उन्होंने बताया कि पिछले शनिवार (21 दिसंबर) और रविवार (22 दिसंबर) को क्रमशः लगभग 15,000 और 17,000 पर्यटक ताजमहल घूमने आए थे। यह वीकेंड सबसे कम पर्यटकों वाले वीकेंड्स में से एक रहा।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles