झारखंड के गिरिडीह जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के घघरडीहा गांव में बकरा काटने के आरोप में दो दलितों को पेड़ से बांधकर पीटने का मामला सामने आया है। इतना ही नहीं आरोपियों ने फिर सब के सामने थूक भी चटवाया। मामले को लेकर शनिवार की देर शाम पीड़ित युवक की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

पीड़ित युवकों का आरोप कि 28 जुलाई को गांव के ही एक यादव समाज के व्यक्ति का बकरा उसकी फसल को खा रहा था। दोनों ने बकरा को खदेड़ा। बाद में बकरे को यादव पक्ष के लोगों ने खुद ही मार दिया। दूसरे दिन 29 जुलाई को बकरा मारने का आरोप लगाते हुए दोनों दलितों को घर से निकाल कर एक पेड़ में बांध दिया गया।

इस दौरान मुखिया बालेश्वर यादव की मौजूदगी में पंचायत हुई जिसमें उनसे जबरन कहलवाया गया कि दोनों ने बकरे को मारा है। यहीं पर उनपर जुर्माना भी लगाया गया। दूसरे पक्ष की तरफ से भी शकुंतला देवी ने दोनों युवकों पर बकरा काटने का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराई है।

स्थानीय मुखिया बालेश्वर यादव का कहना हैं कि उनके सामने किसी को थूक कर नही चटवाया गया है। हां पेड़ में बांधकर मारपीट की गई थी लेकिन उन्होंने तुंरत दोनों युवकों को पेड़ से खोलवा दिया था। इस दौरान दोनों युवकों को साथ प्रताड़ित करने जैसी कोई बात नहीं थी।

मामले में मुखिया बालेश्वर यादव समेत 18 लोगों को नामजद किया गया है। थाना प्रभारी रत्नेश मोहन ठाकुर ने बताया कि जिस दिन पंचायत हो रही थी, उस दिन सूचना पाकर पुलिस भी मौके पर पहुंची थी। दोनों पक्षों को थाने में लाया गया था। उस दिन दोनों पक्षों ने आपस में मामला सुलझाने की बात कहते हुए आवेदन नहीं दिया था। बाद में शनिवार की शाम को दोनों पक्षों ने आवेदन दिया। अब एफआईआर दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी गई है।

Loading...
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano
विज्ञापन