Thursday, October 28, 2021

 

 

 

सावरकर को भारत रत्न, तुषार गांधी बोले – निर्दोष साबित नहीं हुए थे सावरकर

- Advertisement -
- Advertisement -

महाराष्ट्र विधान सभा चुनाव के दौरान बीजेपी की और से सावरकर को भारत रत्न देने की घोषणा के बाद से ही राजनीतिक बयान बाजी जारी है। ऐसे में अब महात्मा गांधी के परपोते तुषार गांधी ने सावरकर को लेकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि भले ही बापू की ह*त्या के मामले में सावरकर दोषी साबित नहीं हुए लेकिन कोर्ट ने उन्हें निर्दोष भी नहीं कहा था।

उन्होंने कहा कि बापू की हत्या की साजिश के मकसद को समझने की जरूरत है। तुषार गांधी ने कहा ‘सावरकर को सबूतों के अभाव में बरी किया था। कोर्ट ने उन्हें बरी नहीं किया था। कोर्ट ने उस दौरान कहा था कि सबूतों के अभाव में और शक के आधार किसी को दोषी नहीं माना जा सकता। लेकिन आज उन्हें ‘भारत रत्न’ देने की बात हो रही है।’

उन्होंने कहा कि ‘बापू की ह*त्या के पीछे क्या मकसद थे इन्हें समझने की जरूरत है। उनकी हत्या की साजिश किस तरह रची गई इसपर भी सोचने की जरूरत है। गौरतलब है कि इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कहा था कि जिस दिन सावरकर को भारत रत्न दिया जाएगा वह इतिहास का ‘काला दिन’ होगा।

महात्मा गांधी के पड़पोते ने कहा कि जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े लोग सावरकर को सर्वोच्च नागरिक सम्मान देने पर विचार कर रहे हों तो हमें ये सारी पुरानी बातें याद रखनी चाहिए। सावरकर को भारत रत्न देने की मांग को लेकर तुषार ने कड़ी आपत्ति जताई है। संघी विचार वाले उन्हें भारत रत्न देने की मांग कर रहे हैं। क्या ये सही है।

मालूम हो कि महाराष्ट्र में बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना और खुद बीजेपी अक्सर सावरकर की देशभक्ति का गुणगान करती रहती है। सावरकर समर्थक अक्सर सावरकर को मिली काला पानी की सजा (अंडमान जेल में कैद) का जिक्र करते हैं। वहीं सावरकर के आलोचक उनके द्वारा अंग्रेजी शासन के सामने माफीनामा लिखने को लेकर उनकी आलोचना करते रहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles