Monday, September 20, 2021

 

 

 

यूपी-बिहार में पकड़े गए ईवीएम से भरे ट्रक, ईवीएम बदलने की कोशिश?

- Advertisement -
- Advertisement -

लोकसभा चुनाव के वोटों की गिनती का काउंटडाउन शुरू हो चुका है। ऐसे में कथित तौर पर देश भर से बिहार के सारण और महाराजगंज में लोकसभा क्षेत्र स्ट्रोंग रूम के पास से EVM से भरी एक गाड़ी के पकड़ने के दावे के बाद यूपी में कई जगहों से ऐसी खबरे सामने आई है।

यूपी की चंदौली लोकसभा सीट पर रविवार को हुई वोटिंग के बाद सोमवार को स्ट्रॉन्ग रूम में ईवीएम रखे जाने के दौरान जमकर हंगामा हुआ। चंदौली के जिला मुख्यालय पर स्थित नवीन मंडी समिति परिसर में EVM रखे जाने की सूचना मिलने पर विपक्षी दलों के लोगों ने जमकर हंगामा किया। विपक्ष के लोगों ने प्रशासन पर ईवीएम बदलने के आरोप लगाए, वहीं अधिकारियों ने कहा कि सोमवार को उन ईवीएम को यहां स्ट्रॉन्ग रूम में लाया गया था, जिन्हें पूर्व में सकलडीहा तहसील पर रिजर्व मशीनों के रूप में रखा गया था।

मौके पर पहुंचे जिला निर्वाचन अधिकारी ने लोगों को समझाने की कोशिश की। शाम करीब साढ़े पांच बजे शुरू हुआ हंगामा चार घंटे बाद सभी ईवीएम वहां से दोबारा मालवाहक पर लाद कर कलक्ट्रेट भेजने पर शांत हुआ। हंगामा कर रहे गठबंधन और कांग्रेस के नेताओं को जिला निर्वाचन अधिकारी ने आश्वासन दिया कि इन ईवीएम को मतगणना वाले दिन नहीं निकाला जाएगा। जिस कमरे में ईवीएम रखी जा रही है उसे सभी के सामने सील करने की बात कही।

प्रशासन के आश्वासन को विपक्ष के नेता मानने को तैयार नहीं हुए। उन्होंने मांग की कि अगर यह अतिरिक्त ईवीएम हैं तो इन्हें कहीं और रखा जाए। इसकी वीडियो रिकार्डिंग भी कराई जाए। हंगामा बढ़ता देख प्रशासन को झुकना पड़ा और ईवीएम वहां से हटाने पर तैयार हो गया। सभी 35 ईवीएम मालवाहक में भरकर कलक्ट्रेट भेजकर हंगामे को शांत किया गया।

चंदौली जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष देवेंद्र प्रताप सिंह ने फोन पर नवजीवन को बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि कहीं से करीब डेढ़ सौ ईवीएम सेंटर पर लाई जा रही हैं। उन्होंने बताया कि वे उस गाड़ी का पीछा करते हुए वहां पहुंचे जहां मतदान में इस्तेमाल हो चुकी ईवीएम को रखा गया था। इस सूचना के फैलने के बाद वहां विपक्षी दलों के करीब 400-500 कार्यकर्ता पहुंच गए। देवेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि हंगामा बढ़ने पर जिलाधिकारी मौके पर आए और उन्होंने गलती मानते हुए बाहर से लाई गई ईवीएम को वहां से जिलाधिकारी कार्यालय में शिफ्ट किया।

वहीं गाजीपुर में भी इसी तरह का मामला सामने आया। सूचना पाकर यहां से गठबंधन के उम्मीदवार अफजाल अंसारी अपने समर्थकों और कार्यकर्ताओं के साथ मौके पर पहुंचे और इसका विरोध किया। उन्होंने इस कार्यवाही के खिलाफ वहां धरना भी दिया। लेकिन इसी बीच वहां पहुंची पुलिस ने उन्हें वहां से हटाने की कोशिश भी की। नीचे दिए वीडियो में देखें कि किस तरह ईवीएम स्थल पर हंगामा हो रहा है और पुलिस विरोध कर रहे अफजाल अंसारी और अन्य कार्यकर्ताओं को वहां से हटाने की कोशिश कर रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles