लखनऊ मे एक मुस्लिम युवक का पासपोर्ट सेवा केंद्र के आधिकारी को धार्मिक रूप से प्रताड़ित करना महंगा साबित हुआ। इस मामले मे आरोपी अधिकारी विकास मिश्रा का तबादला कर दिया गया। पीड़ित की और से ट्वीट के जरिये प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को की गई शिकायत के बाद ये कार्रवाई की गई।

जानकारी के अनुसार, पीड़ित मोहम्मद अनस और उनकी पत्नी तनवी सेठ राजधानी के पासपोर्ट सेवा केंद्र पर  पासपोर्ट रिन्यू कराने पहुंचे थे। इस दौरान पासपोर्ट ऑफिसर विकास मिश्रा ने अनस को धर्मपरिवर्तन कर हिन्दू धर्म अपनाने को कहा।

इतना ही नहीं तनवी से सभी दस्तावेजों में अपना नाम बदलने का निर्देश दिया। जब दोनों ने मना कर दिया तो विकास उनपर बुरी तरह चिल्लाने लगा। बता दें कि अनस और तनवी ने साल 2007 में शादी की थी। उनकी छह साल की एक बेटी भी है और दोनों नोएडा में एक निजी कंपनी में काम करते हैं। दोनों दस जून को लखनऊ पहुंचे थे।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

anas11

अनस ने बताया, ‘सबसे पहले तनवी को काउंटर सी पर बुलाया गया, जहां एक पासपोर्ट अधिकारी विकास मिश्रा ने उनके सभी प्रमाण पत्र देखे। इस दौरान स्पाउस (पति या पत्नी) में मेरा देख अधिकारी ने तनवी से कहा कि वो अपना नाम बदलें। ऐसा नहीं करने पर आवेदन खारिज कर दिया जाएगा। तनवी से जब ऐसा करने से इनकार कर दिया अधिकारी सभी के सामने चिल्लाने लगा। बाद में सहायक पासपोर्ट अधिकारी से मिलने के लिए कहा गया।’

अनस ने आगे बताया, ‘इसके बाद विकास मिश्रा ने मुझे बुलाया और मेरा अपमान करना शुरू कर दिया। मुझसे कि मैं हिंदू धर्म अपना लूं वरना विवाह स्वीकार नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मुझे हिंदू रीति रिवाज के अनुसार शादी करनी होगी। फेरे लेने होंगे। इसके बाद हमसे सहायक पासपोर्ट अधिकारी से मिलने को कहा गया। हमने वहां इसकी शिकायत की। एपीओ ने बताया कि वह इस तरह लोगों से बर्ताव करते रहते हैं। उन्होंने हमसे अगले दिन आने को कहा।’

Loading...