ram nath kovind 647 072517123130

ram nath kovind 647 072517123130

बैंगलोर | 18वी सदी में मैसूर के बादशाह रहे टीपू सुल्तान पर अचानक से सियासत शुरू हो गयी है. जहाँ कर्णाटक सरकार टीपू सुल्तान की जयंती मनाने जा रही है वही मोदी सरकार के एक मंत्री ने टीपू सुलतान को मास बलात्कारी बताते हुए उनकी जयंती में शामिल होने से मना कर दिया. अब बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुब्रमानाय्म स्वामी ने भी टीपू सुल्तान पर विवादित टिप्पणी की है. उन्होंने कहा की टीपू सुलतान एक हत्यारा था.

हालाँकि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का टीपू सुल्तान को लेकर दूसरी राय है. उनके अनुसार टीपू सुल्तान अंग्रेजो के खिलाफ लड़ते हुए शहीद होने वाले योद्धा है. बुधवार को कर्णाटक विधानसभा और विधानपरिषद की 60वी वर्षगांठ के मौके पर संयुक्त सत्र बुलाया गया. संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उक्त विचार प्रकट किये. उन्होंने कहा की टीपू सुल्तान ने मैसूर के विकास में महत्तवपूर्ण योगदान दिया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने आगे कहा की टीपू सुल्तान के समय में ही मैसूर राकेट का विकास किया गया. बाद में युद्ध के दौरान उन्होंने इसका बेहतरीन इस्तेमाल भी किया. राष्ट्रपति के इस बयान के कुछ देर बाद ही सुब्रमण्यम ने टीपू सुल्तान को लेकर विवादित टिपण्णी की. उन्होंने कहा की वह एक हत्यारा था. स्वामी का यह बयान केन्द्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े के बयान का समर्थन करने वाला है जिसमे उन्होंने टीपू सुलतान को हत्यारा और बलात्कारी बताया था.

अनंत कुमार हेगड़े ने कर्णाटक के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर कहा था की मुझे एक बर्बर हत्यारे, मास रेपिस्ट और निरंकुश के महिमामंडन के लिए आयोजित होने वाली जयंती के लिए आमंत्रित न करे. हेगड़े ने इस पत्र की एक कॉपी ट्वीटर पर भी शेयर की. मालूम हो की कर्णाटक सरकार 10 नवम्बर को टीपू सुल्तान की जयंती मनाती है. जयंती में शामिल होने के लिए राज्य के सभी मंत्रियों, केंद्रीय मंत्रियों और अन्य गणमान्यों को पत्र भेजा जाता है.

Loading...