Sunday, September 26, 2021

 

 

 

तीन तलाक़ बिल लोकसभा में बहुमत से पास

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली: तीन तलाक बिल (2018) को लोकसभा ने पारित कर दिया है. अब इसे राज्यसभा में मंजूरी के लिए पेश किया जाएगा. इसके बाद ही यह कानून की शक्ल ले सकेगा.  सदन में मौजूद 256 सांसदों में से 245 सदस्यों ने इसके पक्ष में मतदान किया, जबकि 11 सदस्यों ने इसका खिलाफ अपना वोट दिया.

वोटिंग के समय हालांकि कांग्रेस और एआईएडीएम ने लोकसभा से वॉकआउट कर दिया. कांग्रेस की मांग थी कि इस बिल को लेक्ट कमेटी के पास भेजा जाए. कांग्रेस सहित विपक्ष ने इसके कई प्रावधानों पर आपत्तियां जताई और उन्हें ‘असंवैधानिक’ बताया और दावा किया कि इसका वास्तविक उद्देश्य मुस्लिम महिलाओं का सशक्तिकरण नहीं करना है, बल्कि मुस्लिम पुरुषों को दंडित करना है. विपक्ष ने संशोधित विधेयक को संसद की संयुक्त प्रवर समिति के पास भेजा जाए, ताकि विस्तार से इसकी जांच-परख हो सके. सरकार द्वारा मांगों को खारिज किए जाने के बाद विधेयक पर वोटिंग कराई गई और पांच घंटे से ज्यादा चली बहस के बाद इसे पारित किया गया.

talak

इसके साथ ही सदन में असदुद्दीन ओवैसी के तीन संशोधन प्रस्ताव भी गिर गए. कई अन्य संशोधन प्रस्तावों को भी मंजूरी नहीं मिली. बता दें कि इससे पहले दिसंबर 2017 में भी लोकसभा से तीन तलाक बिल को मंजूरी मिल गई थी, लेकिन राज्यसभा में गिर गया था. इसके बाद सरकार को तीन तलाक पर अध्यादेश लाना पड़ा था. अब सरकार ने एक बार फिर से निचले सदन में संशोधित बिल पेश किया था.

लोकसभा से तीन तलाक को अपराध ठहराने वाले बिल को मंजूरी दिलाने के बाद सरकार के लिए राज्यसभा से इसे पारित कराना चुनौती होगी. उच्च सदन में एनडीए का बहुमत नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles