बीते दो दिनों से देश की राजधानी हिन्दू-मुस्लिम दंगों में झुलस रही है। जिसमे 18 लोगों की मौत हो चुकी है। करीब 180 लोग घायल बताए जा रहे है। जिसमे मुस्लिम धार्मिक स्थलों को भी निशाना बनाया गया है। जानकारी के अनुसार, एक मस्जिद और एक दरगाह को आग के हवाल किया गया। इसी बीच विश्व प्रसिद्ध ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह को देर रात बम से उडाने की धमकी दी गई।

जानकारी के अनुसार, इस वक्त ख्वाजा गरीब नवाज का 808वां उर्स चल रहा है और बड़ी संख्या में देश के कोन कोन से जायरीन अजमेर पहुंच रहे हैं। इसी बीच जिला कलेक्टर विश्व मोहन शर्मा को देर रात किसी अज्ञात शख्स ने फोन पर धमकी दी की वह दरगाह को बम से उडाएगा। जिसके बाद उन्होंने देर न करते हुए इसकी सूचना तुरंत एसपी (SP) को दी।

सूचना मिलते ही पुलिस और सुरक्षा एजेंसियां तुरंत पहुंची और मामले की जांच-पड़ताल में जुट गई। सूत्रों के हवाले से पता चला है कि अजमेर दरगाह को उड़ाने की धमकी देने वाला गुजरात के सूरत का रहने वाला है। आरोपी की पहचान संदीप पवार के तौर पर हुई है। फिलहाल पुलिस ने उस आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और आरोपी से पूछताछ कर रही है।

पुलिस की शुरुआती तफ्तीश में खुलासा हुआ कि आरोपी संदीप सूरत में काम करता है और इन दिनों अपने गांव अरांई आया हुआ था। यह उसने समाचारों में पढ़ा कि उर्स में पाकिस्तानी जायरीन जत्था आ रहा हैं। नशे के आदी संदीप ने पाकिस्तानी जत्थे का विरोध करते हुए दरगाह को बम से उड़ाने की धमकी दी। आरोपी को जिस समय पुलिस ने गिरफ्तार किया उस वक्त भी वो नशे में था।

गरीब नवाज की मजार पर दिया पहला गुस्ल

महान सूफी संत हजरत ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती के 808वें उर्स की रस्मों का आगाज मंगलवार रात से हो गया। मध्य रात्रि को गरीब नवाज की मजार को उर्स के दौरान का पहला गुस्ल दिया गया। महफिल खाना में रात करीब 10 बजे से उर्स की महफिल शुरू हुई। दरगाह दीवान सैयद जैनुअल आबेदीन अली खान की सदारत में हुई इस महफिल में विभिन्न दरगाहाें के सज्जादगान आदि माैजूद थे।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन