bjp

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी की युवा इकाई भारतीय जनता युवा मोर्चा अपना राष्ट्रीय महाधिवेशन इस बार तेलंगाना में करने जा रही है। ये महाधिवेशन तीन दिन का होगा और 26-28 अक्टूबर के मध्य आयोजित किया जाएगा। हालांकि इस अधिवेशन का पूर्व सैनिक विरोध कर रहे है।

दरअसल, इस अधिवेशन के लिए भाजपा ने सिकंदराबाद में सेना के दो मैदानों का आवंटन किया गया है। पूर्व सैनिकों ने राजनीतिक गतिविधि के लिए सेना के मैदान का इस्तेमाल नहीं करने के हवाला देते हुए इसका विरोध किया है। पूर्व सैनिकों ने इसे सेना का अपमान तक करार दे दिया।

ट्विटर पर इस कार्यक्रम के लिए दी गई अनुमति के पत्र को ट्वीट करते हुए कारगिल युद्ध के हीरो रिटायर्ड मेजर डीपी सिंह ने ट्वीट किया है। मेजर डीपी सिंह ने लिखा,” यहां भारतीय सेना का एक और पतन शुरू हो रहा है। मैडम (रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण) कृपया इसे जांचिए। एक तरफ सुरक्षाबलों को आम नागरिकों के द्वारा किए गए भ्रष्टाचार और गंदगी को साफ करवाया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ सुरक्षित रखी हुई चीजों को उनके इस्तेमाल के लिए खोला जा रहा है। वाकई जय हिंद।”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मेजर सिंह के ट्वीट पर ही प्रतिक्रिया देते हुए पूर्व लेफ्टिनेंट जनरल तेज सप्रू ने ट्वीट किया। जनरल सप्रू ने लिखा,” रक्षा विभाग की संपत्तियों को राजनीतिक गतिविधियों के लिए इस्तेमाल जैसा कथित तौर पर सिकंदराबाद में हो रहा है, अगर ये सच है तो ये बेहद गलत है और पहले कभी सुना नहीं गया है। ये एक बेहद दुर्भाग्यपूर्ण घटनाक्रम है। इसे कैसे, क्यों और किसने अनुमति दी है?

वहीं कांग्रेस नेता और लोक सभा सांसद शशि थरूर ने ट्वीट करते हुए कहा,” शर्मनाक। भारतीय सेना कब से भारतीय जनता पार्टी की अनुदानित और अपनी संपत्ति बन गई है?” वहीं कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करते हुए कहा,” ये एक बेमिसाल कदम है। मोदी सरकार के रक्षा मंत्रालय ने भाजपा की युवा इकाई को सिकंदराबाद में रक्षा विभाग के मैदान पर राजनीतिक रैली के आयोजन की इजाजत दे दी है। क्यों? बीजेपी सशस्त्र बलों का इस्तेमाल अपने राजनीतिक फायदे के लिए आदतन करती है। इसका निश्चित रूप से विरोध किया जाना चाहिए।”

Loading...