नोटबंदी को लेकर आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल अब अपने ही गुरु के निशाने पर आ गये हैं. अमेरिका में रहने वाले प्रमुख अर्थशास्त्री टी एन श्रीनिवासन ने नोटबंदी पर सवाल उठाते हुए कहा कि इससे भ्रष्टाचार मिटाने में मदद नही मिलने वाली.  येल यूनिवर्सिटी से जुड़े श्रीनिवासन ने कहा कि भ्रष्टाचार से निपटने के लिए सरकार को बहुत सोच-समझकर रणनीति अपनाने की जरूरत है.

रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल को पढ़ाने वाले श्रीनिवासन ने पीटीआई भाषा से कहा, ‘भ्रष्टाचार से लड़ने की कोई सोची समझी भ्रष्टाचार निरोधक नीति न तो थी और न है. भारत में कार्यान्वित नोटबंदी जैसी नीति से भ्रष्टाचार से निपटे जाने और पारदर्शिता बढाया जाने की संभावना नहीं है.’

उन्होंने कहा, ‘हालांकि नोटबंदी की कोई पूर्व घोषणा नहीं की गई लेकिन सरकार के कार्यान्वयन में तैयारी का अभाव व सोच की कमी दिखी.’ श्रीनिवासन ने कहा कि सरकार ने 500 व 1000 रुपयों के नोटों को चलन से बाहर तो कर दिया लेकिन इसका कोई स्पष्ट उद्देश्य नहीं बताया.

गौरतलब रहें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 8 नवंबर 2016 को 500, 1,000 रुपए के नोटों को अमान्य कर दिया था. इसके फैसले के पीछे दावा किया गया था कि देश को भ्रष्टाचार से, नकली नोटों से, आतंकवाद से निजात मिल जायेगी.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?