जाकिर नाइक के एनजीओ की विदेशी फंडिंग के मामले में की गई जांच में सामने आया हैं कि जाकिर नाइक के एनजीओ इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (आईआरएफ) को विदेश से फंडिंग मिली है. नाइक के एनजीओ को 2012 तक चार सालों में करीब 15 करोड़ रुपए विदेशी फंडिंग मिली है. यह फंडिंग यूके और सऊदी अरब से की गई हैं.

गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नई दिल्ली में कहा कि आईआरएफ के खिलाफ जांच जारी है जिसका पंजीकरण विदेशी अंशदान नियमन अधिनियम (एफसीआरए) के तहत हुआ था. यह पाया गया है कि इसका अधिकांश विदेशी धन ब्रिटेन, सउदी अरब और पश्चिम एशिया के कुछ देशों से आया. अधिकारी ने बताया कि आईआरएफ को 2012 से पहले पांच साल के दौरान करीब 15 करोड़ रूपये मिले थे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अधिकारी ने कहा कि गृह मंत्रालय इस बात की भी जांच करा रहा है कि आईआरएफ को विदेशों से मिलने वाले चंदे का उपयोग राजनीतिक गतिविधियों में किया गया और एनजीओ के धन का उपयोग लोगों को इस्लाम और युवकों को आतंकवाद की तरफ ‘‘आकषिर्त’’ करने में किया गया. अधिकारी ने कहा कि आईआरएफ के वित्तीय लेखा-जोखा की जांच हो रही है कि किस उद्देश्य से विदेशों से धन आए और किन उद्देश्यों में धन का खर्च हुआ.

Loading...