इस बार गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि के रूप में अबु धाबी के राजकुमार शेख मोहम्मद बिन जायद अल निहान शामिल होंगे. उनके साथ इस बार 40 अमीराती सैनिकों का एक दस्ता भी गणतंत्र दिवस परेड में पहली बार हिस्सा लेगा.

इसके अलावा दिलचस्प यह है कि राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) पहली बार परेड का हिस्सा होगा और थलसेना के विशेष बल (स्पेशल फोर्सेज) इस बार परेड में हिस्सा नहीं लेंगे. वहीँ नोटबंदी के मोदी सरकार के फैसले के अनुरूप सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय नगद लेनदेन के बजाय डिजिटल लेनदेन दिखाएगा.

गणतंत्र दिवस परेड में भारत की सैन्य शक्ति का नज़ारा जहां चुस्त कदमताल करते जांबांज़ पेश करेंगे तो वहीं आधुनिक हथियार भी ताकत का एहसास कराएंगे।  परेड में टी-90 टैंक, सुपरसॉनिक क्रूज मिसाइल ब्राह्मोस, आकाश मिसाइल सिस्टम, स्मर्च मिसाइल सिस्टम भारत की सैन्य ताकत की बानगी रखेंगे.

बीते साल गणतंत्र दिवस परेड में सेना के डॉग स्क्वॉड की करीब डेढ़ दशक बाद वापसी हुई. लिहाजा इस बार भी भारतीय सेना की रिमाउंट वैटेनरी कोर श्वान दस्ते के 36 डॉग तथा उनके हैंडलर एक लय में परेड करते दिखेंगे. इसमें सेना के प्रशिक्षित 36 कुत्ते होंगे जिनमें 20 लैब्रेडोर और 16 जर्मन शेपर्ड शामिल हैं.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें