सोशल मीडिया के जरिए सेना में मिलने वाले खराब खाने को देश के भर के सामने लाने वाले तेजबहादुर को बीएसएफ ने बर्खास्त कर दिया हैं. यादव को फोर्स का अनुशासन तोड़ने का दोषी पाया गया है. साथ ही उनकी शिकायत भी गलत पाई गई हैं.

वहीँ दूसरी तरफ तेज बहादुर की पत्नी शर्मिला ने सोशल मीडिया पर देश के नाम एक वीडियो पोस्ट किया हैं. और उसमे सवाल उठाया कि अगर सच्चाई सामने लाने का ये सिला दिया गया है तो कौन सी मां अपने बच्चों को और कौन पत्नी अपने पति को सेना में भेज पाएगी ?

उन्होंने आगे कहा,  उनका (तेज बहादुर) कोर्ट मार्शल कर दिया गया है. उसने जवानों के हित में ये कदम उठाया था और देश को अपना खाना दिखाया था. इसके बाद कोई भी मां अपने बच्‍चे को फौज में भेजेगी क्‍या? उसने ऐसा कौन सा गुनाह किया था जो उसकी 20 साल की सर्विस हो गई थी और उसको डिसमिस कर दिया गया. सरकार को चाहिए था कि उसको बाइज्‍जत घर भेज दे, सरकार ने ये बहुत गलत किया है. इससे कोई भी मां अपने बच्‍चे को सेना में भेजने से डरेगी.

वहीँ यादव ने बीएसएफ के इस फैसले पर कहा है कि वे बर्खास्‍तगी के खिलाफ अदालत में अपील करेंगे. हालांकि उनके बाद बीएसएफ के उच्‍चतर मुख्‍यालय में अपील करने का विकल्‍प भी मौजूद है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें