नई दिल्ली | बीएसएफ ने ख़राब खाने की शिकायत करने वाले जवान तेज बहादुर यादव को बर्खास्त कर दिया है. बीएसएफ ने बुधवार को कोर्ट ऑफ़ इंक्वॉयरी की रिपोर्ट आने के बाद तेज बहादुर को बर्खास्त करने का फैसला किया. बीएसएफ ने तेज बहादुर के आरोपों को झूठा करार देते हुए कहा की किसी भी जवान ने ख़राब खाना देने की बात नही की है. इस तरह की शिकायत केवल तेज बहादुर की तरफ से कही गयी है.

बीएसएफ ने झूठे आरोप लगाने और फाॅर्स की छवि को ख़राब करने के आरोप में तेज बहादुर को दोषी पाया. कोर्ट ऑफ़ इंक्वॉयरी ने अपनी रिपोर्ट में कहा की हमने जिन भी जवानों से बात की है उनमे से किसी ने भी यह नही कहा की उनको ख़राब खाना दिया जाता है. कोर्ट ऑफ़ इंक्वॉयरी से पहले ही बीएसएफ तेज बहादुर पर कई संगीन आरोप लगा चूका था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

खराब खाने की शिकायत करने के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय और गृह मंत्रालय ने बीएसएफ से रिपोर्ट मांगी थी. जिसमे बीएसएफ ने बताया था की तेज बहादुर का फाॅर्स में ख़राब रिकॉर्ड रहा है. वो ड्यूटी से कई दिनों तक गायब रहता है, अधिकारियो के साथ दुर्व्यवहार करता है और शराब का आदी है. हालाँकि तेज बहादुर ने बीएसएफ के सभी आरोपों को ख़ारिज कर दिया था.

वही बीएसएफ ने तेज बहादुर को बर्खास्त करने के अलावा उसकी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति की मांग को भी ख़ारिज कर दिया है. यही नही जवान ने यह भी आरोप लगाया था की ख़राब खाने की शिकायत करने के बाद उसको लगातार प्रताड़ित किया जा रहा है. तेजबहादुर के इस आरोप को भी बीएसएफ ने ख़ारिज कर दिया. मालूम हो की तेजबहादुर ने कुछ महीने पहले सोशल मीडिया पर एक विडियो अपलोड कर ख़राब खाने मिलने की शिकायत की थी. उसने यह भी आरोप लगाया था की सरकार द्वारा भेजे गए खाने के सामान को अधिकारी बाजार में बेच देते है.

Loading...