केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि दिल्ली पुलिस के आधुनिकीकरण के लिए लगातार नए-नए प्रयास किए जा रहे हैं। इसके कारण इसकी गिनती देश की सर्वश्रेष्ठ पुलिस में होती है। इसलिए दिल्ली पुलिस को कुछ ऐसा करना होगा ताकि अन्य राज्यों की पुलिस इसे अपना रोल मॉडल माने। उन्होने कहा कि इसके लिए जरूरी है कि थाने में जाने वाले शिकायतकर्ताओं से पुलिस अच्छे से पेश आया। ऐसा करने से जहां पुलिस की छवि बेहतर होगी वहीं, कार्रवाई होने से जनता को इंसाफ मिलेगा।

इस दौरान राजनाथ सिंह ने पुलिसिया कार्य प्रणाली को लेकर पुलिस महकम से तल्खी से भी सवाल पूछे। थाने में शिकायतकर्ताओं से जिस तरह से पुलिसकर्मी बातें करते हैं उस पर राजनाथ सिंह ने नाराजगी जाहिर की और उन्हें कहा कि कोई अगर पुलिस थाने शिकायत दर्ज कराने आता है तो क्या हम उनसे विनम्रता से बातें नहीं कर सकते? अगर शिकायतकर्ता घंटों इंतजार करते हैं, तो क्या हम उन्हें पानी के लिए भी नहीं पूछ सकते?

राजनाथ सिंह ने आगे कहा कि ‘मैं पुलिस आयुक्त से कहूंगा कि अगर संभव हो तो पुलिस स्टेशनों पर शिकायतकर्ताओं के लिए चाय स्टालों की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए और गृह मंत्रालय इसके लिए फंड उपलब्ध कराएगा। साथ ही उन्होंने फटकार लगाते हुए कहा कि, क्यों पुलिसकर्मी खुद को रोल मॉडल के रूप में पेश नहीं सकते हैं?

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

यह बातें राजनाथ सिंह ने इंडिया गेट पर रफ्तार मोटरसाइकिल के शुभारंभ के दौरान कहीं। दिल्ली पुलिस द्वारा मंगलवार को 300 रफ्तार मोटरसाइकिल (पीसीआर) का काफिला सड़कों पर उतारा गया। इस मोटरसाइकिल पर सवार पुलिसकर्मी भीड़भाड़ वाले इलाके में तुरंत पहुंचकर कार्रवाई शुरू करेंगे।

इस पीसीआर मोटरसाइकिल पर तैनात कर्मी अलार्म, बॉडी वार्म कैमरे, वाकी-टाकी, जीपीआरएस व अलार्म से लैस होंगे। गृहमंत्री ने कहा कि दिल्ली पुलिस में कर्मियों की कमी के मद्देनजर नए पद सृजित किए जा रहे हैं। तीन हजार पद स्वीकृति किए जा चुके हैं। यही नहीं 12 हजार नए कर्मियों की बहाली भी जल्द की जाएगी।

Loading...