नई दिल्ली | तमिलनाडु के किसान अपनी विभिन्न मांगो को लेकर दिल्ली के जंतर मंतर पर कई महीनो से प्रदर्शन कर रहे है. ये लोग प्रधानमंत्री मोदी से मिलकर उन तक अपनी मांगे पहुँचाना चाहते है. लेकिन मोदी जी के पास इन किसानो से मिलने का समय नही है. यही कारण है की प्रदर्शनकारी किसान लगातार कुछ ऐसा करते रहते है जिससे मीडिया का ध्यान तो उनकी तरफ जाता है लेकिन प्रधानमंत्री फिर भी उन्हें अनदेखा कर देते है.

यहाँ तक की इन लोगो ने मोदी सरकार का ध्यान अपनी तरफ खींचने के लिए पेशाब तक पी लिया, चूहें और घास तक खा लिए. यहाँ तक की इन्होने नग्न होकर भी प्रदर्शन कर लिए लेकिन मोदी सरकार फिर भी इनकी परेशानियों को सुनने या समझने के लिए इनके पास नही आई. इतना सब कुछ होने के बावजूद ये लोग जंतर मंतर पर डटे हुए है. इनका कहना है की जब तक मोदी सरकार उनकी मांगो संज्ञान नही लेती वो यहाँ से नही उठेंगे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अब इन किसानो ने अपनी आवाज मोदी तक पहुँचाने के लिए एक नया तरीका खोजा है. इन्होने मंगलवार को बीफ खाकर अपना विरोध दर्ज कराया. इनका मानना है की बीफ को लेकर जितना हो हल्ला पुरे देश में हो रहा है शायद इनके बीफ खाने से मोदी सरकार के कानो तक इनकी अवाज चली जाए. लेकिन केंद्र सरकार अभी भी अपनी जगह से हिलने के लिए तैयार नही है. ऐसा लगता है की जैसे उनको किसानो की कोई प्रवाह ही नही है.

वैसे हर कार्यक्रम या रैली में किसानो की बात करने वाले मोदी न जाने क्यों इन किसानो की हालात देखकर भी चुप है? यहाँ तक की बीजेपी का कोई भी नेता या प्रवक्ता इन किसानो से मिलने नही पहुंचा. आपको बताते चले की ये किसान मोदी सरकार से कर्ज माफ़ी, 40 हजार करोड़ का सूखा राहत पैकेज और कावेरी प्रबंधन बोर्ड की स्थापना की मांग कर रहा है.

Loading...