कानपुर | मंगलवार को मध्यप्रदेश में हुए बम विस्फोट मामले में तीन संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार किये गए. इसके कुछ ही घंटो बाद कानपुर और इटावा से भी कुछ संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया. गिरफ्तार संदिग्धों में से तीन इमरान, फैसल और दानिश के पिता ने मीडिया के सामने आकार कहा की उनके बेटे बेकसूर है और मामले की ईमानदारी से जांच होनी चाहिए.

संदिग्ध आतंकियों के पिता नसीम ने मीडिया से बात करते हुए कहा की मेरे बेटे आतंकी गथिविधियो में संलिप्त नही हो सकते. मैंने अपने बेटो को ऐसे संस्कार नही दिए. मैं हमेशा से चाहता था की वो समाज में घुले मिले और हर वर्ग के साथ प्यार से रहे. यही कारण था की मैंने जानबूझकर ऐसे इलाके में घर लिया जहाँ हिन्दू संस्कृति मिले. मैं खुद नही समझ पा रहा हूँ की क्या हो रहा है?

नसीम ने बताया की मैं कल दावा लेने शहर गया हुआ था तभी टीवी से पता चला की मेरे बेटो को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. इसके बाद मुझे रिश्तेदारों ने फ़ोन कर वापिस नही आने के लिए कहा. उन्होंने कहा की अभी माहौल ठीक नही है कल सुबह ही घर आना. मेरे बेटे बेकसूर है. वो तो कभी देश से बाहर भी नही गए. हालाँकि नसीम ने बताया की करीब ढाई महीने पहले उन्होंने दानिश को डांट दिया था. इसके बाद वो घर छोड़कर चला गया.

लैपटॉप में आपत्तिजनक चीजे मिलने पर नसीम ने कहा की दानिश हमेशा से सभी तरह के साहित्य पढ़ता था. इनमे हिन्दू , इसाई और मुस्लिम , सभी धर्मो के साहित्य शामिल है. नसीम ने कहा की जो लोग देशद्रोही है उनसे हमारा कोई लेना देना है. हम देश से प्यार करने वाले लोग है. मैं चाहता हूँ की मामले की ईमानदारी से जांच हो जिससे दूध का दूध और पानी का पानी हो जाये.

बताते चले की लखनऊ के ठाकुरगंज में मुठभेड़ में मारे गए संदिग्ध आतंकी सैफुल्ला के पिता ने भी मीडिया के सामने आकर कहा की वो अपने बेटे का शव नही लेंगे. खबर यह भी है की सैफुल्ला के पिता सरताज और नसीम रिश्ते में भाई है. एक ही परिवार के इतने लोगो का आतंकी गतिविधियों में पकड़ा जाना शक जरुर पैदा करता है. हालाँकि जांच होने के बाद सब कुछ स्पष्ट हो जायेगा.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?