बाबरी मस्जिद केस: SC ने नहीं दी पुजा की इजाजत, CJI ने कहा – आप देश में शांति नहीं चाहते

अयोध्या में बाबरी मस्जिद से जुड़े स्थल पर पूजा करने की इजाजत देने वाली अपील को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है. इस दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने याचिकाकर्ता को फटकार भी लगाई और कहा कि लगता है आप देश में शांति नहीं चाहते हैं.

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने टिप्पणी करते हुए कहा, ‘’आप देश में शांति नहीं रहने देना चाहते हैं, कोई न कोई हमेशा फच्चर फंसाने में लगा रहता है।’’ उल्लेखनीय है कि अयोध्या विवाद गत कई वर्षों से अदालत में लंबित हैं। इसके बाद भी कई ऐसी याचिकाएं दायर की जा चुकी हैं, लेकिन शीर्ष अदालत इसे नकारता रहा है। अयोध्या का जमीन विवाद भी शीर्ष अदालत में है।

इस मामले को लेकर शीर्ष अदालत में पंडित अमरनाथ मिश्रा ने याचिका दाखिल की थी। इससे पहले इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने भी इस याचिका को ख़ारिज करते हुए पांच लाख रुपये का जुर्माना थोपा था। शीर्ष अदालत ने इस आदेश को ख़ारिज करने से इंकार कर दिया है और जुर्माना कायम रखा है।

कोर्ट ने अभी इस मामले के हल के लिए मध्यस्थतों की नियुक्ति की है। सुप्रीम कोर्ट ने राम जन्मभूमि विवाद सुलझाने के लिए तीन सदस्यों की कमेटी गठित की। इस कमेटी में जस्टिस एफएम इब्राहिम खलीफुल्ला, वरिष्ठ वकील श्रीराम पंचू और आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर शामिल हैं।

समिति दोनों पक्षों को बैठाकर मध्यस्थता की कोशिश में जुटी है। वहीं इस मध्यस्थता से मीडिया को दूर रखा गया है। इस मध्यस्थता के बारे में मीडिया में जानकारी नहीं दी जा रही है।

विज्ञापन