बाबू बजरंगी को सुप्रीम कोर्ट ने दी जमानत, 97 लोगों की ह’त्या का है दोषी

7:14 pm Published by:-Hindi News

2002 में गोधरा दंगे के दौरान नरोदा पाटिया में नरसंहार के मामले में दोषी बाबू बजरंगी को स्वास्थ्य कारणों से सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को ज़मानत दे दी है। जमानत के लिए बाबू बजरंगी ने आंखों की रोशनी चली जाने का हवाला दिया था।

बता दें कि 97 लोगों की हत्या के मामले में बाबू बजरंगी को निचली अदालत ने उम्रकैद की सजा सुनाई थी, मगर बाद में गुजरात हाई कोर्ट ने सजा घटाकर 21 साल कर दी थी। फिलहाल बाबू बजरंगी अब तक पांच साल जेल में गुजार चुका है।

बजरंगी की तरफ से अदालत में पेश हुए अधिवक्ता आर बसंत ने कहा कि वह उनका स्वास्थ्य खराब होने के आधार पर ही जमानत का अनुरोध कर रहे हैं। कहा जा रहा है कि बजरंगी सौ फीसदी बधिर और दृष्टिहीन हो चुके हैं। इसके अलावा उन्हें दिल की कई तरह की बिमारियां हैं।

क्या है नरोदा पाटिया दंगा

बता दें कि साल 2002 में गुजरात के अहमदाबाद में नरोदा पाटिया में हुए नरसंहार के मामले में स्पेशल कोर्ट ने भाजपा विधायक माया कोडनानी और बाबू बजरंगी सहित 32 लोगों को दोषी ठहराया था। 28 फरवरी, 2002 को सांप्रदायिक दंगों के दौरान अहमदाबाद के नरोदा पाटिया क्षेत्र में कम से कम 97 मुस्लिम मारे गए थे।

2007 में एक स्टिंग के दौरान बाबू बजरंगी ने यह स्वीकार किया था कि उसने लोगों की हत्याएं की। स्टिंग का वीडियो सामने आने के बाद हंगामा मच गया था। जिसके बाद से बाबू बजरंगी पर कानूनी शिकंजा बढ़ता गया।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें