Tuesday, August 3, 2021

 

 

 

अयोध्या विवाद: सुन्नी वक्फ बोर्ड बोला – जमीयत लगा रही बेबुनियाद इल्जाम

- Advertisement -
- Advertisement -

लखनऊ: उत्‍तर प्रदेश सुन्‍नी सेंट्रल वक्‍फ बोर्ड ने अयोध्‍या मामले पर अपना रुख ढुलमुल करने के जमीयत उलमा-ए-हिन्‍द (महमूद मदनी गुट) के आरोपों को निराधार करार दिया।

सुन्नी वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष जुफर फारूकी ने गुरुवार को बयान जारी कर कहा कि बोर्ड द्वारा बाबरी मस्जिद मामले पर अपने रुख में ढिलाई बरते जाने की खबरें बिल्कुल गलत हैं। उन्होंने कहा कि बोर्ड को शीर्ष अदालत में मामले की पैरवी कर रहे अपने वकीलों की टीम पर पूरा भरोसा है और वह हमेशा उनके शुक्रगुजार रहेंगे।

फारूकी ने ‘भाषा’ को बताया कि बोर्ड न्यायालय में उसकी पैरवी कर रहे वकीलों को नहीं बदल रहा है। जमीयत के जो लोग ऐसे इल्जाम लगा रहे हैं, उन्हें वह जानते तक नहीं हैं। वह सिर्फ अरशद मदनी की अगुवाई वाली जमीयत के लोगों को जानते हैं, जो इस मामले में पक्षकार भी हैं।

babri masjid

गौरतलब है कि जमीयत उलमा—ए—हिन्द के महमूद मदनी वाले गुट के संगठन के प्रदेश अध्यक्ष मौलाना मुहम्मद मतीनुल हक उसामा कासमी ने बुधवार को लखनऊ में संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि सुन्‍नी वक्‍फ बोर्ड अदालत में मजबूती से पक्ष रख रहे वकील शकील सैयद को हटाकर शाहिद रिजवी को पैनल में शामिल करने की कोशिश कर रहा है, जबकि रिजवी की इस मामले में भूमिका शुरू से ही संदिग्‍ध रही है।

उन्होंने कहा था कि हाल के कुछ दिनों में सुन्नी वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष जुफर फारूकी की तरफ से जो रवैया अपनाया गया उससे पूरी कौम चिंतित है। अगर उन्होंने अपना रवैया नहीं बदला तो जमीयत को बोर्ड के कार्यालय के सामने बड़े स्तर पर विरोध प्रदर्शन के लिए मजबूर होना पड़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles