ऐसा माहौल पैदा कर दिया गया कि ट्रिपल तलाक ही मुस्लिमों का सबसे बड़ा मुद्दा: जमात-ए-इस्लामी हिंद

Symbolic

तीन तलाक और शरीअत के कानून को लेकर जमात ए इस्लामी हिंद देश भर में जागरुकता अभियान शुरू करेगी. संगठन ने 23 अप्रैल से 7 मई तक देश भर में पांच करोड़ मुसलमानों तक पहुंचने का लक्ष्य निर्धारित किया हैं.

जमात-ए-इस्लामी हिंद के प्रमुख मौलाना सईद जलालुद्दीन उमरी ने कहा कि देश भर में ऐसा माहौल पैदा किया गया हैं कि तीन तलाक मुस्लिम महिलाओं के लिए सबसे बड़ी मुसीबत हैं और इसके अलावा उनकी कोई और समस्या ही नहीं हैं. हालंकि उनका कहना ये भी हैं कि समुदाय के एक बड़े तबके में इस बारे में जानकारी का अभाव है.

उन्होंने आगे कहा कि पसर्नल लॉ में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है जो महिलाओं के शोषण का रास्ता पेश करता हो. उन्होंने कहा कि मुस्लिम पसर्नल लॉ के बारे में कई गलत धारणाएं फैलाई जा रही हैं.

उमरी ने बताया कि जमात-ए-इस्लामी हिंद देश भर में 700 जन सभाएं और लैंगिक मुद्दे पर इतनी ही संगोष्ठी कर जनसंपर्क कार्यक्रम चलाएगी.

विज्ञापन