jami

jami

जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के 10 छात्रों को दाढ़ी रखने की वजह से दिल्ली के रोहिणी स्थित एनसीसी मुख्यालय में प्रवेश नहीं दिया गया.

6 दिन के कैम्प के लिए मुख्यालय पहुंचे इन छात्रों को दाढ़ी रखने की वजह से धक्का देकर कैंप से बाहर कर दिया गया. साथ ही कहा गया कि अगर कैंप में शामिल होना है तो दाढ़ी कटानी होगी. ये आदेश बटालियन हवलदार मेजर ने दिया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस सबंध में छात्रों का कहना है कि हम ये कैंप पिछले 3 वर्षों से कर रहे हैं परंतु इस तरह का व्यवहार कभी नहीं किया गया. एलएलबी पहले वर्ष के छात्र दिलशाद अहमद ने कहा, ‘हमने आवेदन दिया था कि हम धार्मिक वजहों से दाढ़ी रखते हैं और हम पिछले दो सालों से अधिक समय से एनसीसी का हिस्सा हैं और हमसे कभी भी दाढ़ी हटाने को नहीं कहा गया.

वहीँ एक अन्य छात्र इमरान चौधरी का कहना है कि भारतीय संविधान या रक्षा सेवा , पुलिस प्रशासन मे इस तरह का कोई कानुन या नियम नहीं है . यह एक भेदभाव पूर्ण घटना है इस विधान के साथ खिलवाड़ है तथा व्यक्तिगत स्वतंत्रता का उल्लंघन है.

छात्रों का आरोप है कि उन्हें अपमानित करने के साथ पुलिस कार्रवाई की भी धमकी दी गई. इस मामले में अब यूनिवर्सिटी का कहना है कि वह मामले की जांच कर पता लगाएगी कि कैम्प में क्या हुआ था.

जामिया की मीडिया संयोजक साइमा सईद ने कहा कि हमारा पहला उद्देश्य हमारे स्टूडेंट्स को सहयोग और कानूनी रूप से मदद देना है। .

Loading...