Indian Railway में हुआ अजब घोटाला, स्टेशन के बाहर कई सालों से रखा था इंजन फिर बेच दिया इंजीनियर ने

देश में भ्रष्टाचार आए दिन नए-नए रूप लेता नजर आ रहा है। जहां एक तरफ सरकार इंडियन रेलवे के आधुनिकरण और बदलाव का दावा कर रही है वही इसके अंदर भ्रष्टाचार भी बढ़ रहा है। बिहार के समस्तीपुर मंडल में अजीबोगरीब घोटाला सामने आया जहां एक इंजीनियर ने कोर्ट स्टेशन के पास कई सालों से खड़े स्टीम इंजन को ही बेच डाला।

रिपोर्ट के मुताबिक 14 दिसंबर 2021 को राजीव रंजन झा, हेल्पर सुशील यादव के साथ मिलकर गैस कटर की मदद से पुराने इंजन को कटवा रहे थे। जनसत्ता में प्रकाशित खबर के अनुसार आउटपोस्ट के प्रभारी एमएम रहमान ने काम को रोका तो इंजीनियर ने फर्जी लेटर दिखाते हुए कहा कि इस इंजन का स्क्रैप वापस डीजल शेड तक पहुंचाना है।

जब अगले दिन ड्यूटी पर सिपाही संगीता पहुंची तो रजिस्टर में पिकअप वैन की एंट्री देखी। लेकिन जब शेड में जाकर देखा तो वहां स्क्रैप मौजूद नहीं था। फिर संगीता ने इसकी जानकारी अधिकारियों को दी तो हड़कंप मच गया।

क्योंकि तब पता यह चला कि DMI ने इंजन कटवाने का आदेश नहीं दिया था। अब अधिकारी उस इंजीनियर की तलाश कर रहे हैं जो आदेश दिखाकर इंजन को कटवा रहा था और साथ ही उस पिकअप वैन की भी तलाश जारी है। 2 दिन तक तलाश की जाने के बाद भी स्क्रैप लोडेड वाहन की जानकारी नहीं मिली और ना ही उस इंजीनियर की।

विज्ञापन