देश के पूर्व राष्ट्रपति और मिसाइल मैन के नाम से प्रसिद्ध डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम की पहली पुण्यतिथि पर बुधवार को केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू और मनोहर पर्रिकर ने तमिलनाडु के रामेश्वरम में उनके राष्ट्रीय स्मारक का शिलान्यास किया. इस दौरान कलाम के जीवन और उपलब्धियों को चित्रित करती ‘मिशन ऑफ लाइफ’ नाम की एक प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया गया.

भारत सरकार द्वारा कलाम की प्रतिमा को लेकर मुस्लिम संगठनों द्वारा विरोध किया जा रहा हैं. विरोध कर रहे मुस्लिम संगठनों का तर्क हैं कि कलाम मुसलमान थे, इसलिए उनकी मूर्ति नहीं बनाई जानी चाहिए. अंग्रेजी अखबार ‘द हिंदू’ के के अनुसार मुस्‍लिम संस्‍था ने कलाम की मूर्ति बनने से रोकने के लिए उनके परिवार से भी बात की है.

गौरतलब है कि पिछले साल 27 जुलाई को शिलांग में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट में स्टूडेंट्स को संबोधित करते समय हार्ट अटैक से उनका देहांत हो गया था.

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें








Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें