amu students protest against members of saffron outfit who were trying to entre amu on 02 may 2018. photo @amujournal

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के कुलपति तारिक मंसूर ने बयान जारी कर छात्रों से अपील की है कि वो मीडिया द्वारा फैलाई जा रही झूठ के चक्कर में न फंसे. बल्कि अपनी परीक्षा पर ध्यान दें.

मंगलवार को बयान जारी कर उन्होंने मीडिया खासकर टीवी चैनलों को यूनिवर्सिटी के बारे में झूठ फैलाने के लिए जिम्मेदार बताया. कुलपति ने छात्रों से निवेदन किया है कि ऐसी झूठी जानकारियों के चक्कर में न पड़ कर परीक्षा पर ध्यान दें.

उन्होंने कहा, “किसी भी परिस्थिति में छात्रों को अपनी पढ़ाई में नुकसान नहीं उठाना चाहिए, खास तौर से जब परीक्षा नजदीक हो. मैं सभी छात्रों से शांति बनाए रखने और पूरे मन से अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करने व अपने करियर में अच्छा प्रदर्शन करने की अपील करता हूं.”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मंसूर ने कहा, “मैं हमारे छात्रों का दुख समझता हूं.” उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में भर्ती घायल छात्रों से मिलकर उन्हें बहुत दुख हुआ. कुलपति ने अपनी पत्नी के साथ आंदोलन स्थल का दौरा किया.

उन्होंने एक अपील में कहा, “प्रिय छात्रों कुछ ताकतों के जाल में नहीं फंसना चाहिए, जो हमारे शिक्षा संस्थान की छवि को नुकसान पहुंचाने की कोशिश में जुटी हैं और आपके उज्जवल भविष्य से खेल रही हैं.”

उन्होंने कहा कि चूंकि एएमयू एक मुश्किल दौर से गुजर रहा है, “मीडिया का एक वर्ग अधूरे तथ्यों के साथ विश्वविद्यालय की लगातार एक नकारात्मक छवि गढ़ने की कोशिश कर रहा है.”

उन्होंने कहा, “विभिन्न समूहों की तरफ से विश्वविद्यालय पर हमला, भावनाओं में बहे बगैर बौद्धिक प्रतिकार और वैचारिक कार्रवाई की मांग करता है.” उन्होंने कहा, “मैं पहले ही हमारे छात्रों पर अत्यधिक बल प्रयोग की निंदा कर चुका हूं, जिससे मौजूदा व पूर्व एएमयू छात्र संघ के पदाधिकारियों व दूसरे छात्रों को चोटें आई हैं.”

Loading...