sudarshan

हैदराबाद: हिन्दुवादी टीवी चैनल सुदर्शन के प्रमुख सुरेश चव्हाणके को कानून को अपनी जागीर समझना महंगा साबित हुआ है. बिना परमिशन के हैदराबाद में ‘भारत बचाओ’ नामक यात्रा निकालने पहुंचे चव्हाणके को पुलिस ने लाठियों के दम पर कानून सिखा दिया.

बता दें कि लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी को देशद्रोही बताकर उनके खिलाफ चव्हाणके ने ‘भारत बचाओ’ नामक यात्रा शुरू की है. जिसमे वह जनसंख्या निरन्तर क़ानून की भी मांग कर रहा है. हालांकि पुलिस ने उसकी सांप्रदायिक उन्माद फैलाने की मंशा को भांपते हुए उसे हैदराबाद में घुसने नहीं दिया.

शुक्रवार को पुलिस ने उसे हैदराबाद से 60 किमो दूर संगारेड्डी में ही रोक लिया. लेकिन इस दौरान चव्हाण ने पुलिस के साथ जबरदस्ती और बदतमीज़ी की तो पुलिस ने क़ाबू पाने के लिये उनकी जमकर धुनाई कर दी. अब इस पुरे घटनाक्रम को अलग ही रूप देकर वह टीआरपी बटोरने में जुटा है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि अगर बात करें चव्हाणके की तो उसका अतीत विवादों भरा रहा है. वह अपने शो में ऐसी भाषा का इस्तेमाल करता हैं, जो न केवल पत्रकारिता के खिलाफ है बल्कि देशहित के भी खिलाफ है.

इस वजह देश के कई हिस्सों में उसके चैनल के प्रसारण पर भी पाबंदी है. आए दिन उसके चैनल के खिलाफ शिकायत भी दर्ज होती रहती है. हालांकि संघ परिवार से नजदीकियां होने के कारण कोई खास कार्रवाई नहीं हो पाई.

Loading...