प्रवर्तन निदेशालय की विशेष अदालत ने विवादित सलाफी उपदेशक डॉ ज़ाकिर नाइक के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया हैं.

मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) कोर्ट के विशेष न्यायाधीश पीआर भावके ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की मांग पर यह वारंट जारी किया है. ईडी ने अदालत को से कहा कि 4 बार समन भेजने के बाद भी डॉ नाइक बयान के लिए हाजिर नही हुए हैं.

ईडी का कहना हैं कि डॉ ज़ाकिर नाइक यूएई में हैं और यूएई के साथ भारत की प्रत्यार्पण संधी है, ऐसे में गैर जमानती वारंट के जरिये डॉ. नाइक को भारत लाने में मदद मिलेगी जिससे जांच आगे बढ़ पाएगी. याद रहे ज़ाकिर नाईक के खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग के तहत जांच की जा रही है. ईडी ने पिछले महीने ही नाइक की 18.37 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ईडी ने अदालत में जाकिर नाइक द्वारा भेजा गया मेल भी प्रस्तुत किया. इसमें नाइक ने लिखा था- मैंने कभी भी देश के कानूनी ढांचे के बाहर कुछ नहीं किया है. फिलहाल मैं भारत में नहीं हूं. मेरे लोग बहुत प्रयास करके वह सारी संबंधित जानकारी एकत्र कर रहे हैं जो आपको दी जानी है.

Loading...