akhil

लखनऊ में समाजवादी पार्टी के विशेष अधिवेशन में आज मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को सर्वसम्मति से पार्टी अध्यक्ष चुन लिया गया हैं. इसके साथ ही पार्टी से अमर सिंह की छुट्टी हो गई, वहीँ शिवपाल यादव को पार्टी के उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष पद से हाथ धोना पड़ा हैं. ये अधिवेशन पार्टी महासचिव रामगोपाल यादव द्वारा बुलाया गया था.

इस दौरान रामगोपाल यादव ने तीन प्रस्ताव पेश किये. पहला प्रस्ताव सर्वसम्मति से यूपी के मुख्यमंत्री को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने का पारित हुआ. दूसरे प्रस्ताव में मुलायम सिंह यादव को समाजवादी पार्टी का सर्वोच्च नेता माना गया. वहीँ तीसरे प्रस्ताव में शिवपाल यादव को उत्तर प्रदेश के पार्टी अध्यक्ष पद से तत्काल हटाने के साथ अमर सिंह को पार्टी से निकाल दिए जाने को लेकर पारित हुआ.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस दौरान मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सभी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि जो प्रस्ताव हुए, वह उन लोगों के खिलाफ हैं, जिन्‍होंने पार्टी के खिलाफ काम किया है. उन्होंने कहा कि अगर नेताजी के खिलाफ साजिश हो और पार्टी के खिलाफ साजिश हो तो बेटा होने के नाते मेरे जिम्मेदारी है कि ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई हो. अखिलेश यादव ने कहा कि पार्टी का जहां नुकसान होगा, वहां कार्रवाई करनी पड़ेगी.

अखिलेश यादव ने कहा कि पार्टी में ऐसे लोग हैं जो सरकार बनाना नहीं चाहते हैं, लेकिन सरकार बनेगी तो नेताजी को सबसे ज्यादा खुशी होगी. उन्होंने कहा कि लोग चाहते हैं कि पार्टी की सरकार एक बार फिर बने. उन्होंने कहा कि 3-4 महीने सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण हैं. ऐसे में यह सब पार्टी को नुकसान पहुंचाएगा. उन्होंने पार्टी विधायकों और कार्यकर्ताओं का धन्यवाद दिया कि पार्टी का मनोबल अभी तक कम नहीं हुआ है.

इस अधिवेशन को लेकर सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव पहले ही चेतावनी जारी कर चुके थे कि यह मीटिंग गैरकानूनी है और जो भी इसमें शिरकत करेगा उन पर कार्रवाई की जाएगी.

Loading...