राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने मोदी सरकार के उस दावे को सिरे से खारिज कर दिया हैं जिसमे कहा गया हैं कि सरकार की नीतियाँ आर्थिक नीति गरीबों के लिए है.

आरएसएस विचारक दत्तात्रेय होसबोले ने कहा कि किसानों की आत्महत्या के विषय में सरकार का काम उचित नहीं है. संघ के महासचिव ने कहा कि बीते 1 दशक में किसानों की आत्महत्या पर रोक थाम के लिए सरकार का काम ज्यादा नहीं हैं. उन्होंने कहा कि सरकार समाज की बड़ी आबादी के लिए समान धन बनाने में सरकार असफल रही है.

होसबोले ने मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार कुछ लोगों पर ही केंद्रित है. उनको अरबपति बनाए जाने में मदद की जा रही है. उन्होंने कहा, पिछले एक दशक में 1 लाख किसानों ने आत्महत्या की. हमने किसी भी सरकार को नहीं देखा कि उसकी वजह से वो नीचे लाए गए हों. भगवान ना करें, अगर IT कंपनियों के 10 मालिकानों ने ऐसा किया होता तो? क्या होता?

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा कि मान लें कि इन सभी ने आर्थिक कारणों से आत्महत्या ना कि हो, फिर भी इतनी बड़ी संख्या में किसानों की मौतें, सरकार की योजनाओं और आर्थिक नीतियों पर प्रश्न चिन्ह खड़ा करती हैं.

Loading...