Sunday, June 13, 2021

 

 

 

सिंघु बॉर्डर से पकड़ाए संदिग्ध ने लिया यू-टर्न – ”प्रदर्शनकारियों ने की पिटाई, झूठ बोलने पर किया मजबूर”

- Advertisement -
- Advertisement -

राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर नए कृषि कानूनों के खिलाफ हों रहे प्रदर्शनों के बीच किसान नेताओं की हत्या की साजिश में पकड़े गए संदिग्ध ने यू-टर्न लेते हुए कहा कि प्रदर्शनकारियों ने उसके साथ पिटाई की थी और फिर झूठ बोलने पर मजबूर किया था।

आरोपी युवक का एक Video सामने आया है। जिसमे वह कह रहा है कि मैं सोनीपत का योगेश सिंह 19 तारीख को मामा के यहां गया था। मैं दिल्ली डीटीसी बस में आया था। दिल्ली पुलिस ने मुझे नरेला से आगे भेजा था। 19 तारीख की शाम चार बजे मैं कोंडली क्षेत्र में जा रहा था। मैंने सिर्फ इतना झूठ कहा कि यहां कोई लड़की छेड़ रहा है। इसके बाद वो (कथित तौर पर प्रदर्शनकारी) मुझे ले गए और कैंप में पेंट उतारकर खूब मारा। ट्रॉली में उल्टा लटकाकर भी पीटा गया।

अगले दिन मुझसे कहा गया कि जो कहा जाएगा वही करना होगा। मैंने इसे मान लिया। उन्होंने मुझे खाना खिलाया और कहा कि जैसे-जैसे कहा जाएगा वैसे ही मुझे बोलना है। इसके बाद फिर रात में मेरी पिटाई की गई और शराब पिलाई। वीडियो बनाई गई। मेरे साथ चार लड़के और पकड़े गए थे। इनमें एक का नाम सागर था। उसने बताया कि कुछ नहीं किया फिर भी पीट रहे हैं। हालांकि वो वहां से भाग गया। मुझे बताया गया कि उसे मार दिया। इसके बाद फिर मुझे पीटा गया।

दूसरी और किसानों ने कहा कि केंद्र सरकार के डर से अब वो कुछ भी बोल सकता है। किसान कई महीनों से प्रदर्शन कर रहे हैं। पंजाब में भी प्रदर्शन किया, मगर इस बीच किसानों ने किसी पर हमला नहीं किया। सरकारी संपत्तियों को नुकसान नहीं पहुंचाया। किसान सिर्फ सरकार के समक्ष अपनी बात रख रही है मगर सुनवाई नहीं हो रही।

बता दें कि संदिग्ध को लेकर किसान यूनियन ने दावा किया था कि 26 जनवरी को ट्रैक्टर मार्च के दौरान चार किसान नेताओं को गोली मारने की साजिश भी रची गई। आरोपी ने इसके लिए कथित तौर पर सोनीपत के राई थाने के एक पुलिस अधिकारी का नाम लिया है।

युवक ने बताया, ”हमारा प्लान यह था कि जैसे ही किसान ट्रैक्टर मार्च को लेकर दिल्ली के अंदर घुसने की कोशिश करेंगे तो दिल्ली पुलिस इन्हें रोकगी। इसके बाद हम पीछे से फायरिंग करेंगे ताकि पुलिस को लगे की गोली किसानों की तरफ से चलाई गई है।” शख्स ने आगे कहा, ”रैली के दौरान कुछ लोग पुलिस की वर्दी में भी होंगे ताकि किसानों को तितर बितर किया जा सके।” शख्स ने यह भी बताया कि मार्च के दौरान स्टेज पर मौजूद चार किसान नेताओं को शूट करने का आर्डर है। इन नेताओं की फोटो भी दे दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles