सिख ऑटो ड्राइवर की पिटाई पर बढ़ा बवाल, एसीपी को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा

10:23 am Published by:-Hindi News

राजधानी दिल्ली के मुखर्जी नगर इलाके में पुलिसकर्मियों द्वारा एक सिख ऑटो चालक की पिटाई का मामला शांत होता नहीं दिख रहा है। रविवार रात सिख समुदाय के लोग भारी संख्या में सड़क पर उतर आए और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की। इसके बाद थाने के बाहर ही लोगों ने एसीपी केजी त्यागी को घेर लिया और उनसे मारपीट की।

मामला गंभीर होते देख रेंज के संयुक्त पुलिस आयुक्त मनीष कुमार अग्रवाल और जिले की डीसीपी विजयंता आर्या मुखर्जी नगर थाने पहुंच गईं। उन्होंने लोगों को काफी समझाया लेकिन वे पीछे नहीं हटे। आसपास जिले की पुलिस को भी मौके पर बुला लिया गया। तड़के 4 बजे तक हालात तनावपूर्ण बने रहे।

दूसरी और देर रात पीड़‍ित सरबजीत के लिए इलाके में पहुंचे शिरोमणि अकाली दल नेता मनजिंदर सिंह सिरसा के साथ भी लोगों ने धक्का-मुक्की की। बता दें कि इस मामले में थाने के एएसआई संजय मलिक, देवेन्द्र व कांस्टेबल पुष्पेन्द्र को सस्पेंड कर दिया गया।

सरबजीत को भी देर रात बाबू जगजीवन राम अस्पताल में मेडिकल जांच के बाद पुलिस ने छोड़ दिया। लेकिन सिखों का कहना है कि पुलिसकर्मियों ने एक तो मारपीट की, ऊपर से सरबजीत के खिलाफ भी कई धाराओं में मामला दर्ज किया है। सिखों ने किसी भी कीमत पर पुलिसकर्मियों को दंड देने और सरबजीत के साथ न्‍याय की मांग की।

इस घटना पर दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मुखर्जी नगर में दिल्‍ली पुलिस की बर्बरता निंदनीय है। केजरीवाल इस मामले में निष्‍पक्ष जांच कर दोषियों के खिलाफ कड़ा कदम उठाने की मांग की। उन्‍होंने ट्वीट कर कहा कि नागरिकों की रक्षा करने वालों को अनियंत्रित हिंसक भीड़ बनने की अनुमति नहीं दी जा सकती। केजरीवाल पीड़‍ित सरबजीत से मिलने उसके घर भी पहुंचे।

दिल्ली की इस घटना का वीडियो वायरल होने के बाद मामले की आंच पंजाब भी पहुंच गई। पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर ने एक ट्वीट किया। उसमें उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह को मामले में हस्तक्षेप की अपील करते हुए न्याय दिलाने की मांग की। वहीं शिअद अध्यक्ष सुखबीर बादल ने भी मामले को गंभीर बताया। पंजाब में सोमवार को कई जगह दिल्ली पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन भी किए गए।

Loading...