cm-raghuver-das_148329991

रांची | भारत के संविधान में लोगो को सरकार की निति के खिलाफ रोष प्रकट करने के लिए अधिकार दिए गए है. जनता शांतिपूर्वक धरना प्रदर्शन करके अपना विरोध दर्ज करा सकती है. लेकिन इस अधिकार का लोग अब गलत इस्तेमाल करने लगे है. ज्यादातर मामलो में देखा गया है की रोष व्यक्त करने के लिए लोग , राजनेताओ को काले झंडे दिखा देते है. लेकिन अब जनता नए नए तरीको से अपना विरोध दर्ज कराती है.

झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास को कुछ इसी तरह के विरोध का सामना करना पड़ा है. उनके ऊपर लोगो ने जूतों की बरसात करते हुए ‘ वापिस जाओ’ के नारे लगाए. इस तरह का विरोध प्रदर्शन शायद ही आज तक किसी मुख्यमंत्री ने झेला हो. लोगो का मुख्यमंत्री के प्रति इतना गुस्सा था की वो उनको हानि तक पहुँचाने के लिए तत्पर थे. लेकिन वहां मौजूद सुरक्षाबलो की मुस्तैदी ने किसी भी अनहोनी को होने से टाल दिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मामला झारखण्ड के खरसांवा का है. यहाँ पिछले दिनों पुलिस की गोलीबारी में कुछ लोग मारे गए थे. मुख्यमंत्री रघुवर दास उन्ही लोगो को श्रदांजलि देने शहीद पार्क पहुंचे थे. जैसे ही दास कार्यक्रम में पहुंचे , लोगो ने उनको काले झंडे दिखाए और ‘वापिस जाओ’ के नारे लगाने लगे. हद तो तब हो गयी जब रघुवर दास श्रदांजलि देकर वापिस जाने लगे.

गुस्से भीड़ ने रघुवर दास के ऊपर जूतों की बौछारे कर दी. न जाने किनते ही जूते रघुवर दास की तरफ उछले होंगे . हालंकि सुरक्षाबलो ने रघुवर दास तक जूते नही पहुँचने दिए. इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए दास ने कहा की यह एक पूर्व नियोजित प्रदर्शन था. यह घटिया और खराब राजनीति की एक मिसाल है. मैं इसकी कड़े शब्दों में निंदा करता हूँ. इस दौरान किसी ने घटना की विडियो रिकॉर्डिंग भी कर ली.

देखे विडियो

Loading...