imams bjp 759 620x400

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) मे लखनऊ के शिया बड़ी संख्या मे शामिल हो रहे है। जिनमे ज़्यादातर संख्या शिया मौलानाओं की है। ऐसे मे अब कोलकाता के शियाओं ने  लखनऊ के शियाओं के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

कोलकाता में शिया इमामों ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि लखनऊ में शिया मुसलमानों को बीजेपी मे कैसे शामिल हो सकते है। उन्होने कहा कि ये पूरी शिया कौम का फैसला नहीं है। बल्कि कुछ भ्रष्ट लोगों का काम है। बीजेपी में भ्रष्ट लोगों को शामिल करने का नया ट्रेंड चल रहा है।

शिया धर्मगुरु मौलाना सैयद फिरोज हुसैन जैदी ने बीजेपी पर बांटने की राजनीति का आरोप लगाते हुए कहा, यह कहा जा रहा है कि शियाओं ने बीजेपी ज्वॉइन की, यह सही नहीं है। हर धर्म-समुदाय के लोगों में बीजेपी फूट डालने की कोशिश कर रही है।हम गैर राजनीतिक लोग हैं, हमें राजनीति से दूर रहना चाहिए।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

bjp2 kvwe 621x414@livemint

उन्होने, कहा कि लखनऊ के कुछ शिया मुसलमानों के निर्णय को पूरी शिया कौम का निर्णय नहीं माना जा सकता। बता दें कि 25 जून को राष्ट्रीय शिया समाज लखनऊ के बैनर तले एक कार्यक्रम मे 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए नरेंद्र मोदी के समर्थन की घोषणा की गई।

इस कार्यक्रम मे लखनऊ के शिया मुस्लिमों ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का भी समर्थन भी किया। जिसके बाद से ही शिया धर्मगुरुओं कि चुप्पी पर सवाल उठ रहे है।