इमरान-आशिक को मरणोपरांत शौर्य चक्र, आतंकियों के हाथों हुए थे श’हीद

7:08 pm Published by:-Hindi News

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर देश के जांबाज सैनिकों को उनकी बहादुरी के लिए राष्ट्रपति और सशस्त्र सेनाओं के सर्वोच्च कमांडर रामनाथ कोविंद ने पुरस्कार प्रदान किए। इनमें 02 कीर्ति चक्र, 01 वीर चक्र, 14 शौर्य चक्र, 08 बार टू सेना मेडल (शौर्य), 90 सेना मेडल (शौर्य), 05 नौ सेना मेडल (शौर्य), 07 वायु सेना मेडल (शौर्य) और 05 युद्ध सेना मेडल शामिल हैं।

इस दौरान जम्मू कश्मीर पुलिस ने एक ऐसा रिकार्ड बनाया है जो वीरता के क्षेत्र में अद्दितीय है। जेके पुलिस के जवानों को इस साल तीन शौर्य चक्र की उपलब्धि हासिल हुई। ऐसा पहली बार ऐसा हुआ है कि जेके पुलिस को एक साल में तीन शौर्य चक्र दिए गए हैं। प्रदेश पुलिस को एक पुलिस पदक के अलावा 60 पुलिस वीरता पदक और सराहनीय सेवा के लिए 15 राष्ट्रपति पदक मिले।

जम्मू-कश्मीर पुलिस द्वारा शनिवारको जारी प्रेस रिलीज के मुताबिक सब इंस्पेक्टर इमरान और स्पेशल पुलिस ऑफिसर (SPO) आशिक हुसैन मलिक को मरणोपरांत सम्मानित किया गया। पुरस्कार पाने वाले तीसरे विजेता हेड कांस्टेबल सुभाष चंदर हैं।

kashmir encounter

सब इंस्पेक्टर इमरान टाक की नवंबर 2017 में आतंकियों के साथ एक एनकाउंटर के दौरान मौत हो गई थी। वे अपने साथियों के साथ एक चेकपोस्ट पर संदेहास्पद वाहन की चेकिंग कर रहे थे तभी आतंकियों ने उन पर फायरिंग कर दी। टाक ने आतंकियों की गाड़ी के ड्राइवर को गोली मार दी। आतंकियों ने भागने की कोशिश की। उन्होंने एक आतंकी को मार गिराया। मगर इस गोली बारी में वे घायल हुए और उनकी मौत हो गई। इसी तरह एसपीओ आशिक हुसैन मलिक अनंतनाग के बिजबेहरा इलाके में एक घर में छुपे आतंकियों के खिलाफ ज्वाइंट ऑपरेशन का हिस्सा थे। भीषण गोलाबारी के बीच वे उस घर के नजदीक पहुंचे और आतंकियों से लोहा लिया। इस ऑपरेशन में चार आतंकी मारे गए। मलिक भी शहीद हो गए।

तीसरे शौर्य चक्र विजेता हेड कांस्टेबल सुभाष चंदर बारामुला जिले की एक चेकपोस्ट पर तैनात थे। ये पिछले साल के स्थानीय निकाय चुनावों का दौर था। वाहन की चेकिंग के दौरान एक आतंकी एके 47 लेकर उतरा और उसने चंदर पर फायर कर दिया। वे तब तक सुरक्षित पोजीशन ले चुके थे। उस वाहन में दो आतंकी थे। उन्होंने वाहन में सवार आम नागरिकों को बंधक बनाने की कोशिश की।  चंदर ने पहले आतंकी को मौत के  घाट उतार दिया और दूसरे का ध्यान बंटाने के लिए वाहन के सामने एक ग्रेनेड फेंका। फिर उन्होंने उस आतंकी को भी मार दिया। उस वाहन से भारी संख्या में हथियार और गोला बारूद बरामद किया गया।

Loading...