चेन्नई | आय से अधिक संपत्ति रखने के आरोप में सुप्रीम कोर्ट से दोषी करार दिए जाने के बावजूद शशिकला नटराजन हार मानने के लिए तैयार नही है. वो किसी भी कीमत पर ओ पन्नीरसेलवम को मुख्यमंत्री की गद्दी पर बैठते हुए नही देखना चाहती. यही कारण है की सुप्रीम कोर्ट के फैसले के तुरन्त बाद वो गोल्डन बे रिजोर्ट पहुंची, जहाँ उनके समर्थिक विधयाको को रखा गया है.

खबर थी की वो विधायको से मिलकर आगे की रणनीति बना रही है. इस दौरान उनके साथ उनके परिजन भी मौजद रहे. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यह तो तय है की शशिकला अब तमिनाडु की मुख्यमंत्री बनने की पात्र नही रही. इसलिए इस बात की पूरी उम्मीद थी की पन्नीरसेलवम को मुख्यमंत्री बने रहने दिया जाएगा. लेकिन शशिकला को यह बात बिलकुल भी स्वीकार नही है.

इसलिए विधायको के साथ बैठक करने के बाद शशिकला ने पन्नीरसेलवम को पार्टी से बर्खास्त कर दिया. शशिकला ने पार्टी की महासचिव होने के नाते पन्नीरसेलवम की प्राथमिक सदस्यता को भी रद्द कर दिया है. इसके अलावा जयललिता के बेहद करीबी रहे ई पलनिसामी को विधायक दल का नया नेता भी चुन लिया गया है. शशिकला के इस कदम के बाद राज्यपाल के सामने एक बार फिर असमंजस की स्थिति पैदा हो गयी है.

हालाँकि अभी यह जानकारी नही है की पलनिसामी को कितने विधायको का समर्थन प्राप्त है. फ़िलहाल शशिकला खेमे का दावा है की उनके साथ 119 विधायको का समर्थन है. खबर यह भी है की शशिकला पहले अपने भतीजे दीपक जयकुमार को मुख्यमंत्री बनाना चाहती थी लेकिन उन्होंने खुद इस जिम्मेदारी को लेने से मना कर दिया. उधर पन्नीरसेलवम ने अपने घर के सामने इकठ्ठा हुए समर्थको को धन्यवाद देते हुए कहा की अम्मा की सरकार आगे भी चलती रहेगी.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें