Friday, July 30, 2021

 

 

 

शंकराचार्य स्वरूपानंद का ऐलान – अयोध्या में 21 फरवरी से बनेगा राम मंदिर

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली: शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने ऐलान किया है कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए 21 फनवरी को भूमि पूजन किया जाएगा। उन्होंने कहा इसके लिए सभी अखाड़ों के संतों से बातचीत हो चुकी है।

‘परमधर्म संसद’ की ओर से जारी बयान में भी कहा गया है कि मंदिर निर्माण के लिए 21 फरवरी की तारीख तय की गई है। कोर्ट के रवैये पर नाराजगी जताते हुए कहा गया है कि खेद का विषय है कि कुत्ते तक को तत्काल न्याय दिलाने वाले राम के देश में रामजन्मभूमि के मुकदमे को न्याय नहीं मिल रहा है।

पीएम मोदी के इंटरव्यू का जिक्र करते हुए विज्ञप्ति में कहा गया, ‘पीएम मोदी ने अपने साक्षात्कार में कहा है कि न्याय की प्रक्रिया पूरी होने के बाद जब उनकी बारी आएगी तो वह अपनी भूमिका निभाएंगे। वह अपने वचन पर स्थिर नहीं रह सके और उन्होंने रामजन्मभूमि विवाद की न्याय प्रक्रिया में हस्तक्षेप करते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करवाई है, जिसमें गैर-विवादित जमीन को उसके मालिकों को लौटाने की बात कही गई है। याचिका में कहा गया है कि 48 एकड़ भूमि रामजन्मभूमि न्यास की है जबकि सच्चाई यह है कि एक एकड़ भूमि के अलावा सारी जमीन उत्तर प्रदेश सरकार की है, जो रामायण पार्क के लिए अधिगृहीत की गई थी।’

वहीं शंकराचार्य ने हिंदुओं से आग्रह किया कि 21 फरवरी को सभी हिंदू 4-4 के गुट में 4-4 शिला लेकर अयोध्या पहुंचें। क्योंकि 4 लोगों पर धारा 144 लागू नहीं होती। 4 से ज्यादा लोगों के झुड पर धारा 144 लागू होती है। शंकराचार्य ने कहा, ‘मंदिर एक दिन में नहीं बनेगा, लेकिन जब शुरू होगा तभी तो बनेगा। इसलिए 21 फरवरी को शिलान्यास के जरिए मंदिर का निर्माण शुरू होगा।

उन्होने कहा, ये धर्मसंसद भगवान को परमात्मा मानती है, लेकिन दूसरी धर्मसंसद भगवान राम को परमात्मा नहीं महापुरुष मानते हैं। इसलिए सरदार पटेल की तरह उनका भी पुतल बनाना चाहते हैं। हमारे यहां मूर्ति लोहे या सीमेंट की नहीं बल्कि अष्टधातु, लकड़ी या मिट्टी की बनती है। हमें कंबोडिया के अंकोरवाट की तरह विशाल मंदिर बनवाना है। अयोध्या को वेटिकन सिटी का दर्जा दिया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles