नई दिल्ली | अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद पुरे देश में इसको लेकर चर्चा शुरू हो गयी. देश की शीर्ष अदालत ने मुद्दे को संवेदनशील और आस्था से जुड़ा बताते हुए कहा की दोनों पक्षों को बातचीत के जरिये इसका हल निकालना चाहिए. हालाँकि पहले भी बातचीत के जरिये इस मामले को सुलझाने की कोशिश की गयी है लेकिन हर बार नाकामी ही हासिल हुई है.

ऐसे में देश के सभी राजनितिक दल और बुद्धिजीवी वर्ग भी मानता है की शीर्ष अदालत की सलाह के बाद दोनों पक्षों को बातचीत की पहल करनी चाहिए और इस मुद्दे का हल निकालना चाहिए. अब बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पार्टी के राष्ट्रिय प्रवक्ता शहनवाज हुसैन ने भी इसे बड़ा अवसर बताते हुए कहा है की सभी पक्षों को आपसी सहमती से इस मुद्दे का हल निकालना चाहिए.

सुप्रीम कोर्ट की राय पर प्रतिक्रिया देते हुए शाहनवाज हुसैन ने कहा की जब इलाहबाद हाई कोर्ट का निर्णय आया था तब भी सर संघ चालक ने कहा था की इस निर्णय को किसी की जीत और किसी की हार के तौर पर नही देखना चाहिए. बा देश की शीर्ष अदालत भी यही चाहती है. इसलिए अयोध्या विवाद का हल मिलजुलकर निकालना चाहिए.

शाहनवाज हुसैन ने आगे कहा की सुप्रीम कोर्ट ने इस विवाद का आपसी सहमती एवं सौहार्दपूर्ण तरीके से हल निकालने का बड़ा अवसर प्रदान किया है. इसलिए इस बड़े अवसर को मौके में बदलना चाहिए. हालाँकि शाहनवाज की प्रतिक्रिया के बावजूद बाबरी मस्जिद एक्शन कमिटी ने अदालत के बाहर किसी भी तरह के समझौते से इनकार कर दिया है. उनका कहना है की सुप्रीम कोर्ट की मध्य्सता में लिया गया निर्णय हमें मंजूर होगा. उधर बीजेपी नेता स्वामी ने मुस्लिम संगठनो को सरयू नदी के पार मस्जिद बनाने का प्रस्ताव दिया है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?