दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध का चेहरा बनी शाहीन बाग की दादियों में से एक, ‘बिलकिस’ को दुनिया की 100 सबसे प्रभावशाली शख्सियतों में शुमार किया गया है। अंतरराष्ट्रीय मैगजीन ‘टाइम’ ने अपने 100 सबसे प्रभावशाली लोगों की लिस्ट में 82 साल की बुजुर्ग दादी- बिल्किस को जगह दी है।

टाइम की इस साल की 100 प्रभावशाली लोगों की सूची में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी जगह दी गई है। पीएम मोदी के अलावा, इस लिस्ट में अभिनेता आयुष्मान खुराना, शाहीन बाग आंदोलन से सुर्खियों में आईं बिलकिस दादी और गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई शामिल हैं।

बिल्किस दादी के नाम से मशहूर बिल्किस बानो उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर की रहने वाली हैं, लेकिन वे फिलहाल अपने बच्चों के साथ दिल्ली में रह रही हैं। उनके पति खेती मजदूरी किया करते थे जो अब इस दुनिया में नहीं हैं। उनके बारे में पत्रकार राणा अय्युब ने लिखा है कि ‘बिलकिस को मशहूर होना चाहिए ताकि दुनिया तानाशाही के खिलाफ संघर्ष की ताकत का एहसास करे।’

टाइम मैगजीन के एक लेख में पत्रकार राणा अयूब ने बताया है कि कैसे बिल्किस शाहीन बाग प्रदर्शनों के दौरान लोगों की आवाज बन कर उभरी थीं और उन्होंने दिल्ली की भीषण सर्दी और आंदोलनकारियों को धमकियां मिलने के बावजूद प्रदर्शनस्थल से न हटने की हिम्मत दिखाई। एक इंटरव्यू में बिल्किस ने साफ किया था कि अगर कोई बंदूक भी चला देता है, तो भी वे नहीं हटेंगी।

बिल्किस ने प्रदर्शनों कहा था कि जब तक सीएए को सरकार वापस नहीं ले लेती, तब तक वे नहीं हटेंगी। उन्होंने कहा था, “वे हमें गद्दार बुलाते हैं। जब हम ब्रिटिशों को देश से बाहर निकाल चुके हैं, तो नरेंद्र मोदी और अमित शाह कौन हैं? आप सीएए और एनआरसी हटा लें, तो हम जगह को बिना समय व्यतीत किए खाली कर देंगे।”

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano