Sunday, January 23, 2022

शाहीन बाग में नए साल की रात पर जन गण मन गाकर किया CAA का विरोध

- Advertisement -

पिछले दो हफ्तों से लगातार चल रहा दिल्ली का शाहीन बाग का नागरिकता संशोधन कानून और NRC के विरोध का प्रदर्शन नए वर्ष के जश्न के बीच भी जारी रहा। इस दौरान हजारों लोग इस प्रदर्शन में शामिल हुए।

शाहीन बाग में महिलाओं और कॉलेज विद्यार्थियों समेत बड़ी संख्या लोग प्रदर्शन स्थल पर सीएए का विरोध करने पहुंचे। उनके हाथों में पोस्टर, तख्तियां और तिरंगे थे। जैसे ही रात के 12 बजे लोगों ने जन गण मन गाकर नए साल का स्वागत किया।  विरोध जताने वालों में महिलाओं की संख्या अधिक थी।

स्वराज इंडिया के योगेंद्र यादव ने कहा, ‘‘ मैं इस आस से आया हूं कि नए साल में कुछ अच्छा होगा। मैं यहां आया हूं क्योंकि मुझे बताया गया कि जामिया और एएमयू के बाद यदि आपको उम्मीद जगानी है तो शाहीन बाग जाइए।’’

सीएए विरोधियों में सामाजिक कार्यकर्ता शबनम हाशमी और वकील वृंदा ग्रोवर भी शामिल थीं। ग्रोवर ने कहा, ‘‘ हमने यह जगह इसलिए चुनी क्योंकि हम अपना विरोध शहर के हर हिस्से में ले जाना चाहते हैं…’’ हाशमी ने कहा, ‘‘विचार शांतिपूर्ण और कलाकत्मक ढंग से विरोध प्रदर्शन करने का है।’

प्रदर्शन कर रही महिलाओं में से एक साइमा ने NDTV से बात करते हुए कहा कि हम यहां अपने बच्चों की भविष्य को बचाने के लिए आए हैं, सरकार की ओर से मेरे अधिकारों को छीना जा रहा है। हमारी लड़ाई संविधान को बचाने की लड़ाई है, पूरे देश में हजारों लोग हैं जो कागजातों को लेकर समस्या झेल रहे है। उन्होंने कहा कि मैंने अपने बच्चे को दूध पिला कर सुला दिया और विरोध करने यहां आयी हूं।

एक अन्य महिला सजिदा खान अपने बच्चे के साथ प्रदर्शन करने आयी थी उन्होंने कहा कि मैंने पोलिटिकल साइंस में स्नातक तक की पढ़ाई की है मैंने आज तक जामिया में धर्म के आधार पर कभी भेदभाव होते नहीं देखा है। पहली बार मुझे धर्म के नाम पर देश में भेदभाव का सामना करना पड़ रहा है हम इसका विरोध करते हैं।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles