भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) छोड़कर राजनेता बने शाह फैसल ने अपनी पार्टी जम्मू कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट (जेकेपीएम) के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। शाह फैसल पूर्व में जम्मू-कश्मीर के डायरेक्टर एजुकेशन रहे हैं।

इंडिया टुडे से बातचीत में उन्होने कहा, मैं राजनीति छोड़ रहा हूं।  कश्मीर में एक नई वास्तविकता है और हमें इसके संदर्भ में आना होगा। IAS के रूप में मैं इस राष्ट्र के भविष्य में एक हितधारक रहा हूं। मैं कल्पना नहीं कर सकता कि कुछ लोग मुझे भारत विरोधी कह रहे हैं।

फैसल ने कहा कि मुझे देशद्रोही के तौर पर नहीं देखा जा सकता है, जिसने मुझे जीवन में सब कुछ दिया है। मैं आगे बढ़ना चाहता हूं और नए सिरे से शुरुआत करना चाहता हूं। जो भी स्थिति हो, जीवन रुक नहीं सकता। हमारे सामने गरीबी, अशिक्षा, असमानता और बेरोजगारी की बड़ी चुनौतियां है। अब इस दिशा में कुछ करने की जरूरत है। अगली बार कहां जाऊंगा यह तो समय ही बताएगा।

शाह फैसल के नौकरशाही में लौटने और उनके लेफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा का सलाहकार बनने की अटकलें लगाई जा रही हैं। फैसल ने साल 2010 की सिविल सेवा परीक्षा में टॉप किया था और उन्हें आईएएस का होम कैडर आवंटित किया गया था। वह एक ईमानदार अधिकारी के रूप में लोकप्रिय रहे है।

जेकेपीएम की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि राज्य में जारी राजनीतिक घटनाक्रमों पर चर्चा के लिए पार्टी की कार्यकारिणी समिति की सोमवार को एक आनलाइन बैठक हुई। जेकेपीएम ने कहा, ‘‘बैठक में, सांगठनिक जिम्मेदारियों से मुक्त करने के डॉ. शाह फैसल के अनुरोध पर चर्चा की गई। डॉ. फैसल ने राज्य कार्यकारिणी के सदस्यों को सूचित किया था कि वह राजनीतिक गतिविधियां जारी रखने की स्थिति में नहीं हैं और वह चाहते हैं कि उन्हें संगठन की जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया जाए।’’

पार्टी ने कहा, ‘‘इस अनुरोध को ध्यान में रखते हुए, उनकी गुजारिश को स्वीकार करने का निर्णय लिया गया, ताकि वह अपने जीवन में बेहतर तरीके से कार्यों को जारी रख सकें और जहां भी चाहें अपना योगदान दें।’’ जेकेपीएम के बयान में कहा गया है कि जब तक अध्यक्ष पद के लिए औपचारिक चुनाव नहीं हो जाते उपाध्यक्ष फिरोज पीरजादा को अंतरिम अध्यक्ष नियुक्त करने का सर्वसम्मति से फैसला किया गया है।

Loading...
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano
विज्ञापन